# समाकर्षात् # शहर # इमर # पोंड़ी # हीरालाल # हिन्दी का तुक # त्रयी # अखबर खान # स्थान-नाम # पुलिस मितानी # रामचन्द्र-रामहृदय # अकलतराहुल-072016 # धरोहर और गफलत # अस्सी जिज्ञासा # अकलतराहुल-062016 # सोनाखान, सोनचिरइया और सुनहला छत्‍तीसगढ़ # बनारसी मन-के # राजा फोकलवा # रेरा चिरइ # हरित-लाल # केदारनाथ # भाषा-भास्‍कर # समलैंगिक बाल-विवाह! # लघु रामकाव्‍य # गुलाबी मैना # मिस काल # एक पत्र # विजयश्री, वाग्‍देवी और वसंतोत्‍सव # बिग-बॉस # काल-प्रवाह # आगत-विगत # अनूठा छत्तीसगढ़ # कलचुरि स्थापत्य: पत्र # छत्तीसगढ़ वास्तु - II # छत्तीसगढ़ वास्तु - I # बुद्धमय छत्तीसगढ़ # ब्‍लागरी का बाइ-प्रोडक्‍ट # तालाब परिशिष्‍ट # तालाब # गेदुर और अचानकमार # मौन रतनपुर # राजधानी रतनपुर # लहुरी काशी रतनपुर # रविशंकर # शेष स्‍मृति # अक्षय विरासत # एकताल # पद्म पुरस्कार # राम-रहीम # दोहरी आजादी # मसीही आजादी # यौन-चर्चा : डर्टी पोस्ट! # शुक-लोचन # ब्‍लागजीन # बस्‍तर पर टीका-टिप्‍पणी # ग्राम-देवता # ठाकुरदेव # विवादित 'प्राचीन छत्‍तीसगढ़' # रॉबिन # खुसरा चिरई # मेरा पर्यावरण # सरगुजा के देवनारायण सिंह # देंवता-धामी # सिनेमा सिनेमा # अकलतरा के सितारे # बेरोजगारी # छत्‍तीसगढ़ी # भूल-गलती # ताला और तुली # दक्षिण कोसल का प्राचीन इतिहास # मिक्‍स वेज # कैसा हिन्‍दू... कैसी लक्ष्‍मी! # 36 खसम # रुपहला छत्‍तीसगढ़ # मेला-मड़ई # पुरातत्‍व सर्वेक्षण # मल्‍हार # भानु कवि # कवि की छवि # व्‍यक्तित्‍व रहस्‍य # देवारी मंत्र # टांगीनाथ # योग-सम्‍मोहन एकत्‍व # स्‍वाधीनता # इंदिरा का अहिरन # साहित्‍यगम्‍य इतिहास # ईडियट के बहाने # तकनीक # हमला-हादसा # नाम का दाम # राम की लीला # लोक-मड़ई और जगार # रामराम # हिन्‍दी # भाषा # लिटिल लिटिया # कृष्‍णकथा # आजादी के मायने # अपोस्‍ट # सोन सपूत # डीपाडीह # सूचना समर # रायपुर में रजनीश # नायक # स्‍वामी विवेकानन्‍द # परमाणु # पंडुक-पंडुक # अलेखक का लेखा # गांव दुलारू # मगर # अस्मिता की राजनीति # अजायबघर # पं‍डुक # रामकोठी # कुनकुरी गिरजाघर # बस्‍तर में रामकथा # चाल-चलन # तीन रंगमंच # गौरैया # सबको सन्‍मति... # चित्रकारी # मर्दुमशुमारी # ज़िंदगीनामा # देवार # एग्रिगेटर # बि‍लासा # छत्‍तीसगढ़ पद्म # मोती कुत्‍ता # गिरोद # नया-पुराना साल # अक्षर छत्‍तीसगढ़ # गढ़ धनोरा # खबर-असर # दिनेश नाग # छत्तीसगढ़ की कथा-कहानी # माधवराव सप्रे # नाग पंचमी # रेलगाड़ी # छत्‍तीसगढ़ राज्‍य # छत्‍तीसगढ़ी फिल्‍म # फिल्‍मी पटना # बिटिया # राम के नाम पर # देथा की 'सपनप्रिया' # गणेशोत्सव - 1934 # मर्म का अन्‍वेषण # रंगरेजी देस # हितेन्‍द्र की 'हारिल'# मेल टुडे में ब्‍लॉग # पीपली में छत्‍तीसगढ़ # दीक्षांत में पगड़ी # बाल-भारती # सास गारी देवे # पर्यावरण # राम-रहीम : मुख्तसर चित्रकथा # नितिन नोहरिया बनाम थ्री ईडियट्‌स # सिरजन # अर्थ-ऑवर # दिल्ली-6 # आईपीएल # यूनिक आईडी

Tuesday, June 1, 2010

पर्यावरण

सभ्यता का आरंभ उस दिन हुआ, जिस दिन पहला पेड़ कटा, (छत्‍तीसगढ़ी में बसाहट की शुरुआत के लिए 'भरुहा' काटना मुहावरा है, बनारस के बनकटी महाबीरजी और खासकर गोरखपुर में 'बनकटा' ग्राम नाम, जिनका उच्‍चारण 'बनक्‍टा' होता है, जैसे उदाहरण कईएक हैं) और यह भी कहा जाता है कि पर्यावरण का संकट आरे के इस्तेमाल के साथ शुरू हुआ। तात्पर्य यह कि पर्यावरण की स्थिति, प्राकृतिक संसाधनों के उपयोग से नहीं बल्कि दोहन से असंतुलित होती है। छत्तीसगढ़ की प्राचीन राजधानी रतनपुर को कृष्ण-मोरध्वज की कथा-भूमि माना जाता है। कथा में राजा द्वारा स्वेच्छापूर्वक आरे से आधा काट कर शरीर दान का प्रसंग है। स्थान नाम आरंग की व्युत्पति को भी आरे और इस कथा से संबद्ध किया जाता है। बहरहाल यह कथा छत्तीसगढ़ में पर्यावरणीय चेतना बीज के रूप में भी देखी जा सकती है।

कथा का असर, इतिहास में डेढ़ सौ साल पहले बंदोबस्त अधिकारी मि. चीजम ने दर्ज किया है कि अंचल में लगभग निषिद्ध आरे का प्रचलन मराठा शासक बिम्‍बाजी भोंसले के काल से हुआ और तब तक की पुरानी इमारतों में लकड़ी की धरन, बसूले से चौपहल कर इस्तेमाल हुई है। परम्परा में अब तक बस्तर के प्रसिद्ध दशहरे के लिए रथ के निर्माण में केवल बसूले का प्रयोग किया जाता है। अंचल में आरे के प्रयोग और आरा चलाने वाले पेशेवर 'अरकंसहा' को निकट अतीत तक महत्व मिलने के बाद भी अच्छी निगाह से नहीं देखा जाता था।

पर्यावरण का संरक्षण नीति और योजना मात्र से नहीं होगा, पर्यावरण को जीवन का समवाय महसूस करते रहना होगा। अन्यथा यह सब 'रस्मी' और पर्यावरण संरक्षण 'नारा' बनकर रह जाएगा। यदि पेड़ छाया के लिए और तालाब का निस्तारी इस्तेमाल नहीं रहा तो उन्हें सिर्फ पर्यावरण की दुहाई देकर बचाने का प्रयास संदिग्ध बना रहेगा। पीढ़ियों से इस्तेमाल हो रहे कुओं का नियमित उपयोग बंद होते ही उसके कूड़ादान बनते देर नहीं लगती। विश्व पर्यावरण दिवस का उत्साह कार्तिक स्नान और अक्षय नवमी, वट सावित्री, भोजली पर भी बना रहना जरूरी है। बसंत में टेसू, पलाश और आम के बौर देखने और कोयल की कूक सुनने की ललक रहे तो पर्यावरण रक्षा की उम्मीद बनी रहेगी। ज्यों माना जाता है कि शेर से जंगल की और जंगल से शेर की रक्षा होती है वैसे ही पर्यावरणीय उपादान, समुदाय की दिनचर्या के केन्द्र में हों, तभी उनका बचा रहना संभव होगा।

पर्यावरण की चर्चा करते और सुनते हुए 'डरपोक मन' में यह आशंका भी बनी रहती है कि बाजारवाद के इस दौर में पर्यावरण की रक्षा करने के लिए कोई ऐसी मशीन न ईजाद हो जाए, जिसका उत्पादन बहुराष्ट्रीय कंपनियां करने लगे और वैश्विक स्तर पर हर घर के लिए इसे अनिवार्य कर दिया जाए।

ईश्वरीय न्याय की व्याख्या आसान नहीं लेकिन उससे न्याय की अपेक्षा करते हुए उसकी कृपा, उसके अनुग्रह की चाह सबको होती है। न्याय करते हुए फरियादी की व्यक्तिगत परिस्थितियों का ध्यान ईश्वर रखेगा (मेरा पक्ष लेगा), ऐसी कामना, यह विश्वास बना रहता है। लेकिन प्रकृति का न्याय पूरी तरह तटस्थ और पक्षरहित होता है, जिसमें पहले-पहल गलती होने के कारण 'रियायत' और बार-बार गलती की 'अधिक सजा' नहीं होती तो अच्छे कामों का पुरस्कार अनिवार्यतः, 'श्योर शाट गिफ्ट स्कीम' जैसा मिलता ही है। इसलिए प्रकृति के न्याय पर भरोसा रखें और पर्यावरण को विचार और चर्चा के विषय के साथ-साथ दैनंदिन जीवन से अभिन्न बने रहने की संभावना और प्रयास को बलवती करें। स्वामी विवेकानंद होते तो शायद कहते कि 'उठो, भगवान के भरोसे मत बैठे रहो, इसके लिए तुम्हें ही आगे आना होगा, हम सबको मिलकर बीड़ा उठाना होगा।

टीप - पिछले विश्व पर्यावरण दिवस (5 जून 2009) पर सुभाष स्टेडियम कान्फ्रेंस हाल, रायपुर में नगर पालिक निगम एवं सिटी टेक्नीकल एडवायजरी ग्रुप के तत्वावधान में पर्यावरण संरक्षण पर संगोष्ठी आयोजित थी। कार्यक्रम के पहले अंधड़ और गरज-चमक के साथ बारिश हुई। बिजली गुल हो गई। कार्यक्रम मोमबत्ती जलाकर पूरा किया गया। उस दिन उत्‍पन्‍न व्‍यवधान आज प्रकृति की नसीहत जैसा लगता है। वैसे भी हमारी परम्परा में प्रकृति की विषमता को अनिवार्यतः विपक्ष के बजाय मददगार मानने की उदार सोच है। कालिदास पूर्वमेघ में उज्‍जयिनी पहुंचे मेघ से कहते हैं कि रमण हेतु जाती नायिका को बिजली चमका कर राह दिखाना, गरज-बरस कर डराना नहीं। एक गीत अनुवाद में यह भी जुड़ गया है कि चमक कर उसकी चोरी न खोल देना। पर्यावरण संरक्षण के लिए, प्रकृति अनुकूलन की ऐसी सोच को, इसमें निहित पूरी परम्परा को कायम रखने की जरूरत है।

यह पोस्‍ट 14 अगस्‍त 2010 को 'देशबंधु', रायपुर के पृष्‍ठ-6 पर ''पर्यावरण के साथ परंपरा का निर्वाह'' शीर्षक से प्रकाशित।

25 comments:

  1. बहुत बढिया ्विचारणीय व सामयिक पोस्ट लिखि है। आभार।

    ReplyDelete
  2. पर्यावरण चेतना वर्तमान समय की सबसे बड़ी आवश्यकता है। आशा है आपके विचारों से इस महान आवश्यकता की पूर्ति हो पायेगी।

    ReplyDelete
  3. सुन्दर विषय व विवेचना । नियमित पाठन होगा ।

    ReplyDelete
  4. अच्छा विषय है,
    पर्यावरण के प्रति गंभीर होना ही पड़ेगा।
    आरे का काम काटना ही रहा है लेकिन
    जिस हिसाब से आरा चला उस हिसाब से
    पेड़ नहीं लगाए गए।

    ReplyDelete
  5. आज ही लौटा हूँ. बहुत बढ़िया आलेख है. मेरे मन की बात भी. आरा और आरंग तथा बस्तर के रथ निर्माण का उल्लेख अच्छा लगा.

    ReplyDelete
  6. बढ़िया आलेख है!!
    जिस विषय पर आप लिखने की योजना बना रहे हैं ...बहुत आवश्यकता है आज ....बस नियमित रहने की जरुरत है
    ....क्या करूँ मैं ही नहीं रह पा रहा जो ?
    :-)

    ReplyDelete
  7. Adarniya Akaltarawale sahab
    Nischit hi vishay gambhir aur chintan ka hai. logo me chetana, jagruti, aur civic sense jis din aa jaye us din kaykakalp nischit hai. Lekhan shaili ka to mai murid ho chuka hu. Na keval vishay balki visha ko dhirdata ke sath apne aage badhay hai.
    tuhar likhayi ha bane lagis au e likhayi hamar noni babu manla bhi shuhahi aisan more aasa have.
    Jai johar
    jai chattisgarh mahtari

    ReplyDelete
  8. Eco ka arth ghar(home) hota hai..toh ecology ka arth hota hai 'study of our home'. Humne "eco-friendly" hokar apne aap ko paryavaran aur prakriti se alag kar liya hai..

    Sir, aapka jo point hai ki "paryavaran ko jeevan ka samvaay mahsoos karte rehna hoga.", ye tabhi mumkin hai jab hum apne aap ecology ka hi ek hissa maane. Nahi toh aapne jaisa kaha hai ki "yeh sab ek naara ban kar hi reh jayega."

    ReplyDelete
  9. आपकी यह रचना भी बेहतरीन है राहुल जी। अगर हर इंसान थोडा सा इस तरह सोचना शुरू कर दे तो संसार कुछ और खुशहाल हो जाए। और मिलकर गाएं -
    ये हंसी वादियां, ये खुला आसमां
    इन बहारों में दिल की कली खिल गयी

    पंक्तियां ज़रूर फिल्म से है लेकिन भावनाएं अपनी ही है।

    ReplyDelete
  10. आपकी यह रचना भी दूसरी रचनाओं की तरह बेहतरीन है। आपको बहुत-बहुत बधाई।

    रवीन्द्र गोयल्

    ReplyDelete
  11. आपके इस लेख ने मानो पर्यावरण के सुरक्छा लिए ज|न भर दिया है सही बात है पुरे देश में समाज में सभी को यह बीड़ा जरुर उठाना चाहिए क्योकि पर्यावरण सुरक्छित तो हम सुरक्छित

    ReplyDelete
  12. यस्मिन जीवति जीवन्ति बहवा सा तु जीवति

    कुरुते किम ना काकोsपि चंच्वास्वोदर पूर्णम||

    जीना उसी का सार्थक है जो पर्यावरण के लिए जीता है

    ReplyDelete
  13. Aapka article bahut achha laga, bahut bahut badhai. Bhavisya mein bhi aapke vicharon ko padhkar khushi hogi. Aapki khojein Chhattisgarh ke itihaas ko rekhankit karengi.......ISHWAR KHANDELIYA

    ReplyDelete
  14. mujhe bahut prabhavit kiya(`paryawaran upyog se nahi dohan se asantulit hota hai`pura darshan hai)

    ReplyDelete
  15. Very well said...
    now it is time to think about Trees along with our-self , only this is the way to save our future.
    but ....

    ReplyDelete
  16. Paryawaran diwas par aapka aalekh anukarniya hai.

    ReplyDelete
  17. Chintan shuru hota hai yahan se.......in fact abhi se........thanx SIR.

    ReplyDelete
  18. Aap ke lekh me do mahatvapurna suchnayen hain, mere lihaz se.
    1. Aare ka prayog maratha period me shuru hua-techno upgradation.
    2. Kuon ka upyog zari rakhna hoga, show piece bana kar nahi rakh sakte.
    achchha laga.

    ReplyDelete
  19. aao eak paodha lagayen.dusron ko samjhayen.dher sari photo Akhbar me chhapayen

    ReplyDelete
  20. इस साल पर्यावरण दिवस पर दैनिक नवभारत समाचार पञ में संपादकीय पृष्‍ठ पर अभिमत में तथा दैनिक हरिभूमि बिलासपुर में संपादित रूप में यह ब्‍लाग प्रकाशित हुआ, इसके बाद फोन वार्ता, एसएमएस तथा ईमेल से कई प्रतिक्रियाएं मिलीं, जिनमें से एक श्री विमल पाठक जी भिलाई का एसएमएस उनकी अनुमति मानते हुए यहां उदृत है -
    नवभारत में आपका शोधपरक लेख पढा. बधाई पर्यावरण पर छत्‍तीसगढ की चेतना से परिचित कराकर आपने अतिमहत्‍वपूर्ण कार्य किया है.

    ReplyDelete
  21. पर्यावरण पर आप का लेख अन्य आयाम भी रखता है. आरा का प्रयोग छत्तीसगढ़ में मराठों के साथ प्रारंभ होने का दस्तावेजी उल्लेख प्राप्त होता है. साथ ही लोक आख्यानों में आरे उल्लेख प्राचीन कथाओं ओर पात्रों के साथ मिलता है. यह इस बात का संकेत देता है की संभवत: लोक मानस में बसे कृष्ण-मोरध्वज सरीखे आख्यानों का छत्तीसगढ़ आगमन मराठों के साथ हुआ. ऐसा संभव है की सांस्कृतिक प्रसार की प्रक्रिया के एक महत्वपूर्ण स्थानीय स्वरुप के रेखांकन की शुरुआत में यह ब्लॉग प्रारम्भ बिंदु का काम करे.
    इस सूचनापूर्ण और सोचने को मजबूर करने वाले लेख के लिए साधुवाद

    राकेश सिंह

    ReplyDelete
  22. जब इतने व्यपक परिवर्तन देखता हूं मैं, इतने खिलवाड़ प्रकृति से तो समझ नहीं पाता कि करेक्टिव एक्शन कैसे होगा।
    कभी कभी लगता है कि सीधे सीधे प्रकृति की ओर लौटना होगा। कभी लगता है कि तकनीकी और विज्ञान से हल निकलेगा।
    मनुष्य के दो पहलू हैं - एक लोलुप की तरह दोहन कर रहा है प्रकृति/पर्यावरण का और दूसरा बचाने की सोच रहा है। दोनो उपलब्ध तकनीकी ज्ञान का सहारा ले रहे लगते हैं। देखें, कौन जीतता है!

    ReplyDelete
  23. मोरध्वज की कथा तो हमारे सारण जिले में कही जाती है। आशंका सही है डरपोक मन की।

    ReplyDelete