# समाकर्षात् # शहर # इमर # पोंड़ी # हीरालाल # हिन्दी का तुक # त्रयी # अखबर खान # स्थान-नाम # पुलिस मितानी # रामचन्द्र-रामहृदय # अकलतराहुल-072016 # धरोहर और गफलत # अस्सी जिज्ञासा # अकलतराहुल-062016 # सोनाखान, सोनचिरइया और सुनहला छत्‍तीसगढ़ # बनारसी मन-के # राजा फोकलवा # रेरा चिरइ # हरित-लाल # केदारनाथ # भाषा-भास्‍कर # समलैंगिक बाल-विवाह! # लघु रामकाव्‍य # गुलाबी मैना # मिस काल # एक पत्र # विजयश्री, वाग्‍देवी और वसंतोत्‍सव # बिग-बॉस # काल-प्रवाह # आगत-विगत # अनूठा छत्तीसगढ़ # कलचुरि स्थापत्य: पत्र # छत्तीसगढ़ वास्तु - II # छत्तीसगढ़ वास्तु - I # बुद्धमय छत्तीसगढ़ # ब्‍लागरी का बाइ-प्रोडक्‍ट # तालाब परिशिष्‍ट # तालाब # गेदुर और अचानकमार # मौन रतनपुर # राजधानी रतनपुर # लहुरी काशी रतनपुर # रविशंकर # शेष स्‍मृति # अक्षय विरासत # एकताल # पद्म पुरस्कार # राम-रहीम # दोहरी आजादी # मसीही आजादी # यौन-चर्चा : डर्टी पोस्ट! # शुक-लोचन # ब्‍लागजीन # बस्‍तर पर टीका-टिप्‍पणी # ग्राम-देवता # ठाकुरदेव # विवादित 'प्राचीन छत्‍तीसगढ़' # रॉबिन # खुसरा चिरई # मेरा पर्यावरण # सरगुजा के देवनारायण सिंह # देंवता-धामी # सिनेमा सिनेमा # अकलतरा के सितारे # बेरोजगारी # छत्‍तीसगढ़ी # भूल-गलती # ताला और तुली # दक्षिण कोसल का प्राचीन इतिहास # मिक्‍स वेज # कैसा हिन्‍दू... कैसी लक्ष्‍मी! # 36 खसम # रुपहला छत्‍तीसगढ़ # मेला-मड़ई # पुरातत्‍व सर्वेक्षण # मल्‍हार # भानु कवि # कवि की छवि # व्‍यक्तित्‍व रहस्‍य # देवारी मंत्र # टांगीनाथ # योग-सम्‍मोहन एकत्‍व # स्‍वाधीनता # इंदिरा का अहिरन # साहित्‍यगम्‍य इतिहास # ईडियट के बहाने # तकनीक # हमला-हादसा # नाम का दाम # राम की लीला # लोक-मड़ई और जगार # रामराम # हिन्‍दी # भाषा # लिटिल लिटिया # कृष्‍णकथा # आजादी के मायने # अपोस्‍ट # सोन सपूत # डीपाडीह # सूचना समर # रायपुर में रजनीश # नायक # स्‍वामी विवेकानन्‍द # परमाणु # पंडुक-पंडुक # अलेखक का लेखा # गांव दुलारू # मगर # अस्मिता की राजनीति # अजायबघर # पं‍डुक # रामकोठी # कुनकुरी गिरजाघर # बस्‍तर में रामकथा # चाल-चलन # तीन रंगमंच # गौरैया # सबको सन्‍मति... # चित्रकारी # मर्दुमशुमारी # ज़िंदगीनामा # देवार # एग्रिगेटर # बि‍लासा # छत्‍तीसगढ़ पद्म # मोती कुत्‍ता # गिरोद # नया-पुराना साल # अक्षर छत्‍तीसगढ़ # गढ़ धनोरा # खबर-असर # दिनेश नाग # छत्तीसगढ़ की कथा-कहानी # माधवराव सप्रे # नाग पंचमी # रेलगाड़ी # छत्‍तीसगढ़ राज्‍य # छत्‍तीसगढ़ी फिल्‍म # फिल्‍मी पटना # बिटिया # राम के नाम पर # देथा की 'सपनप्रिया' # गणेशोत्सव - 1934 # मर्म का अन्‍वेषण # रंगरेजी देस # हितेन्‍द्र की 'हारिल'# मेल टुडे में ब्‍लॉग # पीपली में छत्‍तीसगढ़ # दीक्षांत में पगड़ी # बाल-भारती # सास गारी देवे # पर्यावरण # राम-रहीम : मुख्तसर चित्रकथा # नितिन नोहरिया बनाम थ्री ईडियट्‌स # सिरजन # अर्थ-ऑवर # दिल्ली-6 # आईपीएल # यूनिक आईडी

Wednesday, January 12, 2011

गिरोद

यही है इस कथा का शीर्षक और गांव का नाम- गिरोद। किसी छोर से शुरू हो सकने वाली और जहां चाहे रोकी जा सकने वाली कथा। देखिए किस तरह। दस साल पुराने छत्तीसगढ़ विधान सभा से पांच किलोमीटर के दायरे में। लोहा कारखाने के पास, पंद्रह साल से जिसकी भारी मशीनों का तानपूरा यहां जीवन-लय को आधार दे रहा है। कोई बारह सौ साल पुराने अवशेष युक्त गांव का अब यही पता है। वैसे गांव का स्थानीय उच्चारण है- गिरौद या गिरउद। आपका हार्दिक स्वागत है।
गांव के एक छोर पर तालाब के किनारे कोई डेढ़ सौ साल पुराना मंदिर है, जिसका निर्माण गांव प्रमुख दाऊ परिवार ने कराया। पत्थर की नक्काशी वाले स्तंभों और प्रवेश द्वार वाला स्थापत्य मराठा शैली का नमूना है।
खजुराहो में मिथुन मूर्तियों की बहुलता है और प्रसिद्धि यहां तक कि ऐसी कलाकृतियों को खजुराहो शैली नाम दे दिया जाता है, लेकिन ऐसे अंकन कमोबेश मंदिरों में दिख जाते हैं। माना जाता है कि इससे संरचना पर नजर नहीं लगती, बिजली नहीं गिरती, सचाई राम जाने। यह मंदिर भी इससे अछूता नहीं और इन पर नजर बरबस पड़ती है।
इस शिव मंदिर के पास ठाकुरदेव की पूजा-प्रतिष्‍ठा की परम्परा निर्वाह के लिए कमल वर्मा ने बइगाई का कोर्स किया है, गुरु सूरदास तिखुर वर्मा से प्रशिक्षण लिया, जिसके आरंभ के लिए हरेली अमावस्या और गुरु द्वारा सफल मान लिये जाने पर दीक्षांत के लिए नागपंचमी अथवा ऋषिपंचमी तिथि निर्धारित होती है।
समष्टि लोक के व्यवहार में विद्यमान और प्रचलित टोना-टोटका, रूढ़ि माना जा कर कभी प्रताड़ित भी होता है। दुर्घटनावश बनी परिस्थितियों के चलते अंधविश्वास कह कर तिरस्कार योग्य मान लिये जाने से अक्‍सर इसके पीछे अनवरत गतिमान व्यवस्था ओझल रह जाती है। इसके साथ चर्चा 'सवनाही छेना' की यानि अभिमंत्रित गोइंठा-कंडा, जो गांव बइगा सावन में शनिवार की रात पूजा कर, रविवार को घरों के दरवाजे पर लटका जाता है, ताकि अवांछित-अनिष्ट प्रवेश न कर सके।
घर के दरवाजे पर पहटनिन हर साल हांथा लिखती है। पहटनिन यानि पहटिया-गोसाइन और पहटिया यानि रात बीतते और पहट (प्रखेट ? 'खेटितान' अर्थात्- वैतालिक, स्तुतिपाठक जो गृहस्वामी को गा बजा कर जगाता है) होते रोजमर्रा की पहली दस्तक देने वाला ठेठवार। पहट-मुंदियरहा, सुकुवा, कुकराबास, झुलझुलहा, पंगपंगाए बेरा, भिनसरहा, मुंह-चिन्‍हारी तब होता है परभाती, बिहनिया, रामे-राम के बेरा। हांथा के साथ कहीं शुभ-लाभ लिखा है और इन दिनों जनगणना का क्रमांक भी। हांथा के लिए अवसर होता है देवारी यानि बूढ़ी दीवाली, मातर अर्थात्‌ भैया दूज, जेठउनी एकादशी से कार्तिक पुन्नी तक। फिर इसी से मिलती-जुलती आकृतियां अगहन के बिरस्पत पूजा में चंउक बन कर आंगन में उतर आती हैं।

गांव का मुख्‍य हिस्सा है, दाऊ का निवास, गुड़ी और चंडी माता का चबूतरा। नवरात्रि पर जोत जलाने की परम्परा है और जिस तरह गिनती की शुरुआत एक के बजाय 'राम' बोल कर की जाती है, उसी तरह पहली ज्योति मां चंडी के नाम पर बिठाई जाती है।
चंडी दाई में ग्राम देवता की परम्परा और पुरातत्व घुल-मिल गए हैं यानि चंडी के रूप में पूजित सातवीं-आठवीं सदी ईस्वी की महिषमर्दिनी के साथ इतनी ही पुरानी प्रतिमाएं और स्थापत्य खंड भी हैं। चबूतरे पर पूजा के लिए तो दिन-मुहूरत होता है, लेकिन यह गुलजार रहता है, चिड़ी के गुलामों, पान की मेमों, ईंट के बादशाहों, हुकुम के इक्कों के साथ पूरी वाबन परियों से मानों देवालय के महामंडप में देवदासियों का नर्तन हो रहा हो और चौपड़ की बाजियों में असार संसार के मोहरे, तल्लीन साधक और उनके साथ सत्संगी से दर्शक भी जमा हैं। गांव के प्रवेश द्वार पर लीला मंच है और एक कमरे में बाना-सवांगा, वस्त्राभूषण सहित भजन-कीर्तन का बाजा-पेटी सरंजाम भी।
बुजुर्ग याद करते हैं, रेल लाइन के किनारे का डीह, यानि जहां कभी गांव आबाद था और बाद में वहीं संतरा, आम, केला, नीबू, अमरूद का मेंहदी की बाड़ वाला फलता-फूलता बगीचा था। लेकिन पिछले डेढ़-दो सौ सालों में धीरे-धीरे यहां, दो किलोमीटर दूर खिसक आया, आकर्षण बना वही शिव मंदिर और शायद कारण था सड़क और रेल से बदला कन्टूर, खेत और पानी। पुराना पचरी तालाब, जिसके बीच में चौकोर सीढ़ीदार कुंड बताया जाता है।
सन 1900 में पूरे छत्तीसगढ़ में महाअकाल का जिक्र होता है। इस साल मार्च माह में रायपुर जिले को 56 कार्य प्रभार क्षेत्र (चार्ज) में विभाजित कर राहत कार्य से लगभग 2 लाख लोगों को रोजगार मुहैया कराए जाने की बात पढ़ने को मिली थी, जिसमें एक हजार से भी अधिक पुराने तालाबों को दुरुस्त कराया गया था। यह अप्रत्याशित अभिलिखित मिल गया यहां, चार्ज नं.8 के काम का प्रमाण। लोग याद करते हैं- 'बड़े दुकाल पहर के, बिक्टोरिया रानी के सुधरवाए तलाव'

बात करते-करते पता लग रहा है गांव का पूरा इतिहास, व्यवस्थित और कालक्रमानुसार। काल निर्धारण के लिए शब्द इस्तेमाल हो रहे हैं- छमासी रात, पण्डवन काल, सतजुगी, बिसकर्मा के, रतनपुर राज, भोंसला, अंगरेज ...। इसे ईसा की सदियों में बिठाने के लिए पुरातत्व-प्रशिक्षित, मेरे ज्यादा जोर दे कर सवाल पूछने पर, बाकी सब लाजवाब हैं शायद मैं उनकी यह भाषा नहीं समझ पा रहा हूं और वे मेरी। लेकिन अब तक मौन रहा सियनहा बूझ रहा है और सबको समझ में आ जाने वाली बात धीरे से कहता है 'तइहा के गोठ ल बइहा ले गे'।

पुराना तालाब, फिर बना मंदिर, जिसके बाद दाऊ का घर बना, मराठा असर वाली बुलंद इमारत। लगता है इस मकान में न जाने क्या-क्या होगा। अजनबी से आप, गांव में अकारण तो आए नहीं हैं, यह तो गंवई-देहातियों का काम है, शहरी कामकाजियों का नहीं। लेकिन गांव में कुछ लेने-देने नहीं आए हैं, यह भरोसा बनते ही, आत्मीयता का सोता अनायास फूट पड़ता है।
घर का दरवाजा खुला है, बेरोक-टोक, स्वयं निर्धारित मर्यादा पालन की देहाती शिष्टता निभाते, बैठक में पहुंचने पर तस्वीरें टंगी दिखती हैं। पहली फोटो दाऊ गणेश प्रसाद वर्मा की, चेहरा बदल जाए तो सब कुछ, हम-आप सब की पिछली पीढ़ी जैसा। दूसरी तस्वीर है, उनके पिता दानवीर दाऊ भोलाप्रसाद वर्मा की।
पचरी तालाब के शिलालेख के बाद दूसरा अप्रत्याशित हासिल यह तस्वीर है। रायपुर 'कुरमी बोर्डिंग' के साथ जुड़ा 'भोला' कौन है, जिज्ञासा रहती थी। पता लगा, दाऊ भोलाप्रसाद वर्मा यानि वह दानवीर, जिसने कोई 80 साल पहले, छुईखदान बाड़ा कहलाने वाले क्षेत्र का 28 हजार वर्गफुट हिस्सा खरीद कर दान किया था, यह भवन छत्तीसगढ़ की अस्मिता से जुड़े मुद्‌दों सहित राज्य आंदोलन-बैठकों के प्रमुख केन्द्रों में एक रहा है।
राज्य केन्द्र, राजधानी रायपुर से यहां आने पर लग रहा है कि यह गांव शाखा और पत्ते नहीं, बल्कि जड़ें ही यहां हैं। सो, जमीन पा लेना आश्वस्त कर रहा है और याद भी दिला रहा है, ऊर्ध्वमूलमधः शाखमश्वत्थं ...

गुफ्तगूं :

अब कभी-कभी स्वयं से ही ईर्ष्‍या होती है कि ज्यादातर पिछला समय गांव-कस्बों में बीता। हजारों गांवों में गया, ज्यादातर में एकमात्र बार। अकारण ही आ गया था यहां, फिर भी 'वहां गए क्यों थे' के जवाब का दबाव हो तो कहूंगा 'किस्सा' के लिए। दादी-नानी तो रही नहीं, जो किस्से सुनाएं और हम रह गए बच्चे, अपने सच्चे भरोसों पर संदेह होने लगता है तो खुद से 'कथा-किस्से' का जुगाड़ ही उपाय रह जाता है। इस जन्मना-कर्मणा का हासिल कि हर गांव कथा होता है, जिसे कुछ हद तक पढ़ना सीखा है मैंने। जी हां, कोई भी गांव मेरे लिए कथा की तरह खुलता है और पाठक के साथ पात्र बनने को आमंत्रित करता है तो गांव-कथा में गाथा-बीज भी अंकुराने लगता है। ये भी कोई कथा है ..... आप न माने, मुझे तो कथा, गाथा बनते दिख रही है। ..... कुछ साथी भी है, वापसी की जल्दी है। इसलिए चल खुसरो घर ...

गिरोद से छत्तीसगढ़ के महान संत बाबा गुरु घासीदास जी याद आ रहे हैं, इसी नाम के एक अन्य ग्राम में उनकी पुण्‍य स्‍मृति है और जहां इन दिनों कुतुब मीनार से ऊंचा स्मारक 'जैतखाम' बन रहा है। पिछली सदी के एक और संत स्वामी आत्मानंद जी के नाम पर गांव में मनवा कुर्मी क्षत्रीय समाज रायपुर द्वारा संचालित अंग्रेजी माध्यम विद्यापीठ है। और भी कुछ-कुछ, बहुत कुछ ... । इस गाथा को शब्द बनने के पहले यहीं रोक ले रहा हूं, मध्यमा-पश्यन्ती स्तुति बना कर, अकेले पुण्य लाभ के लिए मन में दुहराते, अपनी खुदाई जो है।

73 comments:

  1. मंदिर के चित्र अच्छे पुरातन और रुचिकर और रहस्यमय से लगे ...
    शुभकामनायें आपको !

    ReplyDelete
  2. अनायास ही दानवीर भोला से मुलाकात हो गई, जिनका एक महत्वपूर्ण योगदान इतिहास बन गया।

    शानदार प्रस्तुति, छोटे छोटे गांवो में बिखरी एतिहासिक कडियां।

    ReplyDelete
  3. देश के हर गाँव का अपना इतिहास है.. एतिहासिक परम्पराएं हैं जिन्हें संकलित करने, संरक्षित करने के प्रयास नहीं के बराबर हो रहा है.. एक छोटे से गाँव गिरोद से आप इतिहास और संस्कृति की कड़ियाँ चुन कर लाये हैं.. अच्छा लगा आलेख.. अच्छा लगा विवरण.. छत्तीसगढ़ के बारे में काफी जानकारी मिल रही है आपसे... झारखण्ड से होने के कारण यह आलेख अपना सा लग रहा है...

    ReplyDelete
  4. girod ka singhavlokan sammohak raha.....sahaj hi
    kuh shabd a-boojh rahe lekin bhaw ko jaise-taise
    pakra....

    aisi gram-itihas katha chalti rahe...

    pranam.

    ReplyDelete
  5. अरुण से सहमत होते हुए कहूँगा कि हर गाँव अपने में एक किस्सा है |

    ReplyDelete
  6. हिन्दुस्तान का हर गाँव इतिहास की धरोहर है और कला की प्रतिमा.
    बहुत आभार इतनी अच्छी जानकारी देने का.

    ReplyDelete
  7. कुछ विशेष आकर्षण है चित्रकला में, कई बार देख चुका हूँ, कुछ डूढ़ने का प्रयास करता।

    ReplyDelete
  8. गिरोद के बारे में फोटो सहित बढ़िया जानकारी ... बढ़िया कलेक्शन

    ReplyDelete
  9. भारत की आत्मा का दर्शन /
    kabhi mere blog par bhi aaye
    babanpandey.blogspot.com

    ReplyDelete
  10. ek dum naya ...........kuchh bhi to nahi suna tha ye sab...!!

    achchha laga padh kar...

    ReplyDelete
  11. बहुत ही अच्छा लगा...इस छोटे से गाँव 'गिरोद' को जानना .वहाँ का प्राचीन मंदिर और उसपर उत्कीर्ण मूर्तियाँ, सांस्कृतिक धरोहर हैं,उनकी अच्छी तरह देखभाल होनी चाहिए. हमें इनसे रूबरू कराने का आभार.

    डीह यानि रेल लाइन के किनारे,
    डीह का यही अर्थ है?...मुझे आज पता चला, जबकि झारखंड में कई शहरों के नाम ऐसे है..'गिरिडीह'..इत्यादि

    ReplyDelete
  12. कही दूर छत्तीसगढ़ के एक गांव गिरोद की दिवाली बाद की परम्पराए और बनारस की परम्पराए एक सी लग रही है तो कही दीवार पर बनाने वाली ये आकृतिया मुंबई में घरो के बाहर बनाने वाली रंगोली सी दिख रही है | ये सारी चीजे कही ना कही हम सब को जोड़ती ही है |

    ReplyDelete
  13. @ रश्मि रविजा जी
    'डीह यानि रेल लाइन के किनारे' गलती से ऐसा आशय निकल रहा था, आपकी टिप्‍पणी से मेरा ध्‍यान गया, अब दुरुस्‍त कर दिया है. डीह का लगभग अर्थ पुराने अवशेषों युक्‍त टीला या जहां कभी पुरानी बस्‍ती आबाद रही हो. आपका आभार, धन्‍यवाद.

    ReplyDelete
  14. गोइंठा-कंडा, एक नयी जानकारी. बहुत ही रोचक आलेख. वैसे मुझे पता है कैसे गाँवों में आपको कथा मिलती है.

    ReplyDelete
  15. @ सुब्रह्मनियन जी,
    आप सहित न जाने कितनी ऐसी कहानियों के पात्र बने हैं हम, धन्‍यवाद सर.

    ReplyDelete
  16. मिथुन मूर्तियों की उपस्थिति का कारण नजर न लगना, बिजली न गिरना पहली बार मालूम हुआ। अब तक मैं यही मानता रहा हूँ कि मन्दिरों में मिथुन मूर्तियों के होने पीछे चार पुरुषार्थों की उपस्थिति ही कारण रहती होगी।
    चित्र बहुत ही सुन्‍दर हैं। नयनाभिराम।

    ReplyDelete
  17. गिरोद के और वहां के मंदिरों तथा महत्वपूर्ण स्थलों के दर्शन.
    आभार.

    ReplyDelete
  18. आदरणीय राहुल सिंह जी
    नमस्कार !
    हर गाँव का अपना इतिहास है.....फोटो सहित बढ़िया जानकारी
    धन्‍यवाद सर.
    मेरी हौसला अफज़ाई के लिए आप सभी का बहुत-बहुत शुक्रिया.

    ReplyDelete
  19. एक गांव के बहाने आपने इस देश की आत्मा का परिचय कराया है राहुल जी…

    ReplyDelete
  20. राहुल भैया
    गिरोद से शुरु होकर पहटिया काम और पहटनिन हांथा चिन्हा के साथ दानवीर दाऊ भोला राम के विषय में सार जानकारी दी।
    साथ ही ग्राम नाम गिरोद से छत्तीसगढ़ के महान संत बाबा गुरु घासीदास जी को याद किया।

    शानदार पोस्ट के लिए आभार

    ReplyDelete
  21. Rahul Bhai, Greatly elaborated information on Girod. History, archaeology,legends-heresays and connectivity with contemporary times were charismatically interwoven. Worth reference matter.Fantastic presentation on heritage. Congrats- Kishore diwase

    ReplyDelete
  22. मंदिर में मिथुन मूर्तियों का होना लोगों को आश्चर्यचकित करता है. पर यह चेतावनी है कि यदि ईश्वर के समीप आना है तो राग से होते हुए आओ ....उसे भोगते हुए .....
    यहाँ वर्जना नहीं है ...स्वीकार्यता है....काम की ....पर सन्देश स्पष्ट है कि उसे भोगकर ...पूरा करके ....तृप्त होकर आओ .....और सब कुछ बाहर त्याग कर आओ ...एक अवस्था को पार करते हुए आओ, कुछ भी कामना शेष न रहे तभी आओ . इसीलिये ये मूर्तियाँ मंदिर के बाहर हैं ...अंदर नहीं हैं ...अंदर है तो केवल इष्ट की मूर्ति...काम बाहर रह गया .....अब तो अपना आराध्य ही है अपने पास. यह सम्भोग से समाधि की ओर की यात्रा है. गिरौद के बारे में जानकारी के लिए बधाई.

    ReplyDelete
  23. राहुलजी,
    ’पहाट’ शब्द की व्युत्पत्ति ’प्रभात’ में देखी जा
    सकती है,वैसे यह शब्द मराठी भाषा में भी इसी
    अर्थ में प्रयुक्त होता है ।
    मन्दिर मराठा शैली का है,इससे भी अनुमान लगा
    सकते हैं कि इस क्षेत्र की साँस्कृतिक पृष्ठभूमि और
    भौगोलिक निकटता,-महाराष्ट्र से कितना गहरा संबंध
    है ।
    ’सवांगा’ (स्वांग?) भी महाराष्ट्र से घनिष्ठतः जुड़ा
    है ।
    जानकारी बहुत आत्मीय सी लगी ।
    आभार और धन्यवाद,

    सादर,

    ReplyDelete
  24. @ कौशलेन्‍द्र जी,
    बहुत-बहुत धन्‍यवाद. अच्‍छी व्‍याख्‍या है, लेकिन मंदिरों के अंदर, गर्भगृह के मुख्‍य प्रवेश द्वार पर लगभग अनिवार्यतः और शास्‍त्रीय अनुशंसाओं अनुरूप कामुक अंकन वाली रूप शाखा या मिथुन शाखा का विधान है.

    ReplyDelete
  25. कौशलेन्द्र जी का कमेंट मैथुन्ररत मूर्तियों की विद्यमानता का एक बेहतरीन पक्ष प्रस्तुत करता है।
    आपने तो पोस्ट के शुरू में ही स्पष्ट कर दिया था कि ये कथा अनंत है। सच में कोई अंत नहीं। बेहद रोचक तरीके से जड़ों से परिचित करवाते हैं आप।
    पूजा का दिन-मुहूर्त होता है, लेकिन गुलामों\मेमो\बादशाहों\इक्कों के गुलजार होने का और लुटने का न कोई मौसम और न कोई दिन\वार - मस्त एकदम।
    आभारी हैं हमारे अंदर पुरातत्व संबंधी एक अनोखी प्यास को जगाने के लिये।

    ReplyDelete
  26. बहुत मन करता है की ऐसी किसी छोटी सी जगह पर जाऊं और कुछ दिन बिताऊँ.
    पर घर में कहने से डरता हूँ:)
    कृपया दो फोटो को जोड़कर (इनसेट करके) न लगाएं. दोनों को अलग-अलग देखना ही अच्छा लगेगा. ऐसा आपने शायद चित्रों की अधिकता होने पर किया है. लेकिन सारे चित्र खूबसूरत हैं और उन्हें बड़ा करके देखना बहुत अच्छा लगा.
    प्रांतीय जीवन और लोकसंस्कृति की अनूठी छाप है आपकी पोस्टों में. लीक से हटकर चलने वाला ब्लौग है यह.

    ReplyDelete
  27. बिलकुल सही फरमाया है आपने थोडा पुरातत्व थोडा इतिहास थोडी लोकपरम्परा । यही पूरा जीवन है ।

    ReplyDelete
  28. एक दस्तावेज़ है अपका ब्लॉग.. एक अभिलेखागार से कम नहीं.. मिट्टी को छूकर स्वर्णिम इतिहास तक का बखान, चकित ही नहीं करता वरन् जुड़ाव भी पैदा करता है उस जगह से... देश के मानचित्र पर गिरोद को यदि अंकित करना चाहें तो शायद सुई की नोंक भर जगह यथेष्ट होगी किंतु इतिहास ऐसा कि अध्याय भी कम पड़ें!! आभार!

    ReplyDelete
  29. गांव नहीं पूरी किताब है इतिहास की.. संस्कृति की..

    ReplyDelete
  30. सामान्यतः आपकी प्रविष्टियों से समय की यात्रा का अहसास होता है विशेषकर अतीत से आज तक का समय ! गिरौद का कोई शाब्दिक अर्थ भी ज़रूर होगा ! स्थापत्य पर मराठी संपर्क का प्रभाव सहज लगता है ! एक ख्याल ये कि रानी विक्टोरिया ने जन संकट के समय तालाब सुधरवाये थे ,कार्य की सार्थकता की वज़ह से ग्रामीणों के मन में उसकी स्मृतियाँ भी सकारात्मक हैं तो आज से कोई १०० साल के बाद हमारे नेता विक्टरवा(ओं) के द्वारा सुधरवाये गए तालाबों और निर्माण कार्यों की स्मृतियाँ कैसी होंगी यह अनुमान भी सहज ही लगाया जा सकता है ,देशी और विदेशी लुटेरों का यह फर्क चिंता में डालता है ,सोचने को मजबूर करता है ! और हां ...मंदिर में मिथुन मूर्तियों का औचित्य जानकर खुश हुआ ! अब मुझे अपने ब्लॉग में अपनी पोस्ट 'नीलवर्ण विषबेल' को लेकर कोई अपराध बोध नहीं :)

    आपने लिखा गाँव के किसी भी छोर से शुरू और कहीं भी रोकी जाने वाली कथा ...मेरी टिप्पणी भी इस मान्यता पर आधारित उस कथा जैसी मानी जाए !

    ReplyDelete
  31. क्या गांव के प्रवेश द्वार की स्वागत पट्टिका में वाक्य सुधार के सुझाव उन्हें दिए जा सकते हैं ?

    ReplyDelete
  32. @ अली जी,
    बस यही कहूंगा, व्‍यापक दृष्टि से देखें तो धर्म, अर्थ और काम से संतुलित समन्‍वय से ही मोक्ष प्राप्‍त होता है.

    ReplyDelete
  33. ये ऐतिहासिक लेख बहुत अच्छा लगा।

    ReplyDelete
  34. भारत का हर गाँव धरोहर और कला की केंद्र हे.आज की दुनिया में ऐसे एतिहासिक परम्पराएं,लोक कथाएँ बहोत हे पैर उसको संकलित करने, संरक्षित करने के प्रयास नहीं हो पारहा हे .पर इस समय में आपके द्वारा गिरोद गाँव से पुरातत्व ,इतिहास और संस्कृति आदि स्मृति चुन कर लाये हैं..इ एक अच्छा प्रयास हे हमारा के काम का प्रमाण,इ बास्तविक लाजवाब हे .और उसके साथ जो लोक कथा 'बड़े दुकाल पहर के, बिक्टोरिया रानी के सुधरवाए तलाव' पढ़ के बहोत अच्छा लगा.

    आप के आलेख अच्छा लगा.बहोत बहोत आभार.धन्यवाद

    ReplyDelete
  35. अच्‍छी पोस्‍ट....शुक्रि‍या !

    ReplyDelete
  36. राहुल जी,
    हमारी जड़े गावों में ही है !
    गिरोद की तस्वीरें इतिहास की साक्षी बन कर आपके आलेख को प्राणवान कर रही हैं !
    -ज्ञानचंद मर्मज्ञ

    ReplyDelete
  37. शीर्षक पढ़ते ही गुरु घासीदास जी के गिरौद का ख़याल आया। इस दूसरे गिरोद से आपने अद्भुत परिचय कराया।

    छत्तीसगढ़ी शब्दावली, संस्कृति और परम्पराओं से सजा यह आलेख मन को मुग्ध कर गया।

    देश के प्रत्येक गांव में इतिहास के धुंधले पृष्ठ अवश्य नज़र आ जाएंगे,हां, उन्हें देखने-पढ़ने के लिए आप के जैसी एक पारखी नज़र की ज़रूरत अवश्य होगी।

    इस अनूठी जानकारी के लिए धन्यवाद, राहुल जी।

    ReplyDelete
  38. निशांत मिश्र जी नें कहा कि प्रांतीय जीवन और लोकसंस्कृति की अनूठी छाप है आपकी पोस्टों में. लीक से हटकर चलने वाला ब्लौग है यह. जिससे मैं पूर्ण सहमत हँ.
    गिरौद में इतिहास, संस्‍कृति, पुरातत्‍व सहित बहुत सारी जानकारी मिली. बइगा कोर्स को पढ़ते ही मुझे छत्‍तीसगढ़ी व्‍यंग्‍य 'मर्दनि‍न कोर्स'का याद हो आया.
    पोस्‍ट में क्षेत्रीय भाषा के शव्‍दों को व्‍यापक बनाने हेतु आपका विश्‍लेषण अच्‍छा लगा. शव्‍दकोशों में इसी प्रकार से प्रयोग व उद्हरणों का उल्‍लेख होना चाहिए.

    ReplyDelete
  39. इमेल से प्राप्‍त महेश शर्मा जी की टिप्‍पणी
    namaskar bhaiya,
    durlabh jankari mili,aur yah aapke prayason se hi sambhav ho
    pata hai.blog ke madhyam se giraud ko poora ghoom liya ,aur wahan ki
    sab visheshatayein pata chal gayi.
    sadhuwad.

    ReplyDelete
  40. कोई भी गांव मेरे लिए कथा की तरह खुलता है
    ....इस पंक्ति में बड़ी उर्जा है। कौशलेन्द्र जी का तर्क अच्छा लगा।

    ReplyDelete
  41. बहुत बड़ा आलेख हैं यदि कुछ संक्षिप्‍त होता या दो किश्‍तों में होता तो अधिक रुचिकर होता।

    ReplyDelete
  42. लोहड़ी,पोंगल और मकर सक्रांति : उत्तरायण की ढेर सारी शुभकामनाएँ।

    ReplyDelete
  43. गिरोद के बारे में जानकार अच्छा लगा ..जितनी शिद्दत से आपने इस लेख के माध्यम से हमारी ऐतिहासिक परम्परा का वर्णन किया है उसका कोई जबाब नहीं ..आपका लेखन शोधपूर्ण है और आप निरंतर नए विषयों पर लिखते हैं निश्चित रूप से आपका योगदान महत्वपूर्ण है..इतिहास और संस्कृति से हमारा परिचय करवाने में ...आपका शुक्रिया

    ReplyDelete
  44. गिरोद के बारे में अच्छी जानकारी मिली। चित्रों के माधयम से अभिव्यक्ति मुखरित हो उठी है।मेरे पोस्ट पर आपका स्वागत है।

    ReplyDelete
  45. गिरोद के अतीत को जानना रोचक लगा.

    ReplyDelete
  46. .
    .
    .
    आपकी नजरों से देखा 'गिरौद' को...
    नया बहुत कुछ जाना भी, आज इस आलेख को पढ़कर...
    मिथुन मूर्तियों के बारे में कौशलेन्द्र जी सही ही कह रहे हैं।


    ...

    ReplyDelete
  47. गिरोद के बारे में इतना कुछ जानकर बहुत अच्छा लगा.... आपने इतना खूबसूरती से इसे पेश किया की लगा वही सबकुछ देख रहे....... सुंदर प्रस्तुति.

    ReplyDelete
  48. nice information.. sharing k liye shukriya..
    Please visit my blog.

    Lyrics Mantra
    Banned Area News

    ReplyDelete
  49. ग्राम यात्रा के वर्णन की प्रेरणा देती पोस्‍ट है। पढ़वाने के लि‍ये धन्‍यवाद।

    ReplyDelete
  50. लेखनी के कोणों के साथ साथ फोटोग्राफी के कोण भी आकर्षित कर गए सर!

    ReplyDelete
  51. बहुत सुदर वर्णन एसा लग रहा था जेसे हम वही घूम घूम कर उसकी जानकारी ले रहें हों !
    बहुत बहुत शुक्रिया !

    ReplyDelete
  52. बहुत शानदार पोस्ट। इस तरह की सामग्री ब्लॉग पर देख लगता है हर व्यक्ति की क्रियेटिविटी/अभिव्यक्ति को चार चांद लगाने वाली है यह विधा।
    आप से अपने आस-पास को टटोलती और भी पोस्टों की आशा है।

    ReplyDelete
  53. हर गांव कथा होता है, जिसे कुछ हद तक पढ़ना सीखा है मैंने। जी हां, कोई भी गांव मेरे लिए कथा की तरह खुलता है और पाठक के साथ पात्र बनने को आमंत्रित करता है..
    bahul achchha laga sir.
    shubhkamnayen.

    ReplyDelete
  54. What to say , thou i am known to Rahul Bhaiya for a very long but still i use to think sometime that he too is from this planet Earth only, his content may take to Trans (not EduTrans) since i have a very limited editon model of brain specific for all narrow focus operation only,then also can clam i have understood 30% matter, greeting to bhaiya for writing

    ReplyDelete
  55. काम में रस बचा है तो गर्भग्रह के बाहर से ही नयनों तक सीमित रह कर वापस घर चले आओ, यदि राम में रुचि जग गयी है तो अंतस की चेतना को बाहर के काम के प्रतिनिधि प्रहरी हों न हों कोई फर्क ही न पड़ेगा।
    बहुत ही गहरी सोच रही होगी खजुराहो शैली के पीछे।
    गिरोद के बारे में जानकारी देने के लिये धन्यवाद

    ReplyDelete
  56. Is naee jankari ke liye apka bahut dhanyavaad. Bahut hi accha vistar hai.........bahut badia kam hai apka........badhaee kabool kijie.
    Surjeet.

    ReplyDelete
  57. दादी-नानी तो रही नहीं, जो किस्से सुनाएं और हम रह गए बच्चे, अपने सच्चे भरोसों पर संदेह होने लगता है तो खुद से 'कथा-किस्से' का जुगाड़ ही उपाय रह जाता है.....
    बहुत बढिया!

    ReplyDelete
  58. गिरोद के बारे में फोटो सहित बढ़िया जानकारी | धन्यवाद |

    ReplyDelete
  59. इस पोस्ट को पढ्कर लग रहा है कि कितना अच्छा होता अगर अपने गाँव के बारे में ऐसा या इसी टाइप का कुछ लिख पाता....

    ReplyDelete
  60. आप के लेखन शैली से नया साक्षात्कार हुआ, विषय के अनुसार भाषा और शब्दावली.लगातार नेट से बाहर था , वापसी में अच्छा पोस्ट पाया .

    ReplyDelete
  61. वास्‍तव में यह 'गिरोद' मेरे लिए एक प्रयोग जैसा ही था, क्‍या होना चाहिए, क्‍या करना चाहता हूं (सांस्‍कृतिक दृष्टि से ग्राम सर्वेक्षण) यह तो पता था, लेकिन कैसे होगा पता नहीं था, प्रयास किया, आप सबको पसंद आया, आभार.

    ReplyDelete
  62. bouth he aacha post hai aapka.... very nice pic

    ReplyDelete
  63. आदरणीय श्री राहुल सिंह जी
    प्रणाम !
    वाह भाईजी वाऽऽह !
    धन्य हैं आप और आपका श्रम स्तुत्य है ।
    गिरोद की सैर बहुत सजीव वृतांत है , एकदम जैसे हम हमारी आंखों से देख रहे हैं …
    गिरोद, पहटिया काम , पहटनिन हांथा चिन्ह , दाऊ भोला राम पूरी जानकारी बांध कर रखने वाली है। आभार ! महान संत बाबा गुरु घासीदास जी और उनकी स्मृति में कुतुब मीनार से भी अधिक ऊंचा स्मारक 'जैतखाम' बनने की जानकारी रोचक और प्रसन्नतादायक है ।

    एक शानदार पोस्ट के लिए हार्दिक बधाई और मंगलकामनाएं !
    शुभकामनाओं सहित
    - राजेन्द्र स्वर्णकार

    ReplyDelete
  64. ○ भारी मशीनों का तानपूरा यहां जीवन-लय को आधार दे रहा है। कोई बारह सौ साल पुराने अवशेष
    युक्त गांव का अब यही पता है ।
    ○ प्रसिद्धि यहां तक कि ऐसी कलाकृतियों को खजुराहो शैली नाम दे दिया जाता है ।
    ○ ठाकुरदेव की पूजा-प्रतिष्ठा की परम्परा निर्वाह के लिए कमल वर्मा ने बइगाई का कोर्स किया है ।
    ○ चबूतरे पर पूजा के लिए तो दिन-मुहूरत होता है, लेकिन यह गुलजार रहता है, ♣ के गुलामों, ♥ की
    मेमों, ♦ के बादशाहों, ♠ के इक्कों के साथ................
    ○ अपने सच्चे भरोसों पर संदेह होने लगता है तो खुद से 'कथा-किस्से' का जुगाड़ ही उपाय रह जाता
    है।
    भईया आपके पोस्ट के अइसने लाईन बहुतेच सुघ्घोर अउ अ सरकारी लागथे, कोनो गांव म घुम के आथे...देखके.....समझके आथे आप त पढ़ के शोध करके आथव, गांव के कोनो भी शब्द‍ के सफल आपरेशन घला करथव, गिरोद के स्वा गत द्वार म जतका खरचा आय होही वोतका म हैण्डधपंप एक पारा के पियास बुझातिस तभो गिरोदगांव, गिरोद रतीस हाथा लिखई संग सबो फोटू नीक लागिस पुराना पचरी के सुघ्घगर फोटू अउ परिचय ल देख के डरत रहेंव कि पानी खरीदईया मन इहां मत पहुंच जाय फेर देखंव पोस्टद म सवनाही छेना लगे हे तब त कोना डर नईये, सार त इही हे भईया आपके लिखे दू लाईन के बीच के सादा जघा म घला भाव छुपे रथे जिन दिखे त नहीं फेर लिखा ले जादा वजन रथे ।

    ReplyDelete
  65. बहुत अच्छी प्रस्तुति

    ReplyDelete
  66. हीरे की परख जौहरी ही जानता है.वैसे तो इस गाँव को वहाँ के लोग और उस रास्ते से आने-जाने वाले लोग हमेशा देखते आ रहे हैं,लेकिन यह गाँव आपकी पारखी निगाह से ही ब्लॉग जगत के जरिए आज दुनिया की निगाह में आ रहा है. वास्तव में एक छोटे से गाँव का चकित कर देने वाला अदभुत वर्णन किया है आपने. इतिहास , कला और हमारी लोक-संस्कृति साकार हो उठी है इसमें. बहुत -बहुत बधाई .

    ReplyDelete
  67. आपकी यायावरी को प्रणाम ऐसी जानकारियां कहाँ मिल सकती है बहुत ही ज्ञानवर्धक पोस्ट

    ReplyDelete
  68. शोध पूर्ण पुरातात्विक दृष्टिकोण से महत्वपूर्ण आलेख . सरंक्षण हेतु भारतीय पुरातत्वा विभाग को सप्रेषित कीजिये

    ReplyDelete