# समाकर्षात् # शहर # इमर # पोंड़ी # हीरालाल # हिन्दी का तुक # त्रयी # अखबर खान # स्थान-नाम # पुलिस मितानी # रामचन्द्र-रामहृदय # अकलतराहुल-072016 # धरोहर और गफलत # अस्सी जिज्ञासा # अकलतराहुल-062016 # सोनाखान, सोनचिरइया और सुनहला छत्‍तीसगढ़ # बनारसी मन-के # राजा फोकलवा # रेरा चिरइ # हरित-लाल # केदारनाथ # भाषा-भास्‍कर # समलैंगिक बाल-विवाह! # लघु रामकाव्‍य # गुलाबी मैना # मिस काल # एक पत्र # विजयश्री, वाग्‍देवी और वसंतोत्‍सव # बिग-बॉस # काल-प्रवाह # आगत-विगत # अनूठा छत्तीसगढ़ # कलचुरि स्थापत्य: पत्र # छत्तीसगढ़ वास्तु - II # छत्तीसगढ़ वास्तु - I # बुद्धमय छत्तीसगढ़ # ब्‍लागरी का बाइ-प्रोडक्‍ट # तालाब परिशिष्‍ट # तालाब # गेदुर और अचानकमार # मौन रतनपुर # राजधानी रतनपुर # लहुरी काशी रतनपुर # रविशंकर # शेष स्‍मृति # अक्षय विरासत # एकताल # पद्म पुरस्कार # राम-रहीम # दोहरी आजादी # मसीही आजादी # यौन-चर्चा : डर्टी पोस्ट! # शुक-लोचन # ब्‍लागजीन # बस्‍तर पर टीका-टिप्‍पणी # ग्राम-देवता # ठाकुरदेव # विवादित 'प्राचीन छत्‍तीसगढ़' # रॉबिन # खुसरा चिरई # मेरा पर्यावरण # सरगुजा के देवनारायण सिंह # देंवता-धामी # सिनेमा सिनेमा # अकलतरा के सितारे # बेरोजगारी # छत्‍तीसगढ़ी # भूल-गलती # ताला और तुली # दक्षिण कोसल का प्राचीन इतिहास # मिक्‍स वेज # कैसा हिन्‍दू... कैसी लक्ष्‍मी! # 36 खसम # रुपहला छत्‍तीसगढ़ # मेला-मड़ई # पुरातत्‍व सर्वेक्षण # मल्‍हार # भानु कवि # कवि की छवि # व्‍यक्तित्‍व रहस्‍य # देवारी मंत्र # टांगीनाथ # योग-सम्‍मोहन एकत्‍व # स्‍वाधीनता # इंदिरा का अहिरन # साहित्‍यगम्‍य इतिहास # ईडियट के बहाने # तकनीक # हमला-हादसा # नाम का दाम # राम की लीला # लोक-मड़ई और जगार # रामराम # हिन्‍दी # भाषा # लिटिल लिटिया # कृष्‍णकथा # आजादी के मायने # अपोस्‍ट # सोन सपूत # डीपाडीह # सूचना समर # रायपुर में रजनीश # नायक # स्‍वामी विवेकानन्‍द # परमाणु # पंडुक-पंडुक # अलेखक का लेखा # गांव दुलारू # मगर # अस्मिता की राजनीति # अजायबघर # पं‍डुक # रामकोठी # कुनकुरी गिरजाघर # बस्‍तर में रामकथा # चाल-चलन # तीन रंगमंच # गौरैया # सबको सन्‍मति... # चित्रकारी # मर्दुमशुमारी # ज़िंदगीनामा # देवार # एग्रिगेटर # बि‍लासा # छत्‍तीसगढ़ पद्म # मोती कुत्‍ता # गिरोद # नया-पुराना साल # अक्षर छत्‍तीसगढ़ # गढ़ धनोरा # खबर-असर # दिनेश नाग # छत्तीसगढ़ की कथा-कहानी # माधवराव सप्रे # नाग पंचमी # रेलगाड़ी # छत्‍तीसगढ़ राज्‍य # छत्‍तीसगढ़ी फिल्‍म # फिल्‍मी पटना # बिटिया # राम के नाम पर # देथा की 'सपनप्रिया' # गणेशोत्सव - 1934 # मर्म का अन्‍वेषण # रंगरेजी देस # हितेन्‍द्र की 'हारिल'# मेल टुडे में ब्‍लॉग # पीपली में छत्‍तीसगढ़ # दीक्षांत में पगड़ी # बाल-भारती # सास गारी देवे # पर्यावरण # राम-रहीम : मुख्तसर चित्रकथा # नितिन नोहरिया बनाम थ्री ईडियट्‌स # सिरजन # अर्थ-ऑवर # दिल्ली-6 # आईपीएल # यूनिक आईडी

Friday, March 11, 2011

सबको सन्मति ...

राष्ट्रीय स्तर पर उपजी विसंगत स्थितियों का विचार करते हुए ईश्वर के बहाने गांधी ही याद आते हैं, यही कारण होगा कि मायाराम सुरजन जी के संकलन का शीर्षक है-'सबको सन्मति दे भगवान', मानों गांधीजी की प्रार्थना सभा । पुस्तक में अस्सी के दशक और नब्बे के शुरूआती वर्षों में हुई सामाजिक उथल-पुथल की पड़ताल करते लेख हैं। यह कालखण्ड है- अयोध्या विवाद, शहबानो, काश्मीर, सिख और तथाकथित ईशपुरूषों का, साथ ही रायपुर से जुड़े तत्कालीन कुछ प्रसंग, जो भारतीय सामाजिक दशाओं की निगरानी के लिए 'इण्डेक्स' माने जा सकते हैं, ऐसे ही मुद्‌दों पर वैचारिक विमर्श, इस पुस्तक में संग्रहित है। इस तरह पुस्तक की प्रकृति स्वयं 'विश्लेषण और टिप्पणी' की है, अतः अब टिप्पणी के बजाय इसकी अंतरधारा पर चर्चा अधिक समीचीन होगी।

फ्लैप का वाक्य है- ''सारी सांस्कृतिक परम्पराएं जैसे राजनीतिक एवं सामाजिक वहशीपन का शिकार होती जा रही है।'' तल्ख लगने वाली यह टिप्पणी गंभीर विचार के लिए उकसाती है। धर्म निरपेक्ष राष्ट्र, भारत- धर्म प्रधान देश है, जिसका इतिहास धार्मिक-सामाजिक समरसता के प्रमाणों से सराबोर है, किन्तु इतिहास और परम्पराओं की चर्चा में तथ्यों का चयन और उनकी व्याख्‍या, बहुधा युगानुकूल और जरूरतों के अनुसार ही होती है। यही कारण है कि 'सत्यार्थ प्रकाश', अपने प्रकाशन काल में धर्मों के तार्किक विश्लेषण का महत्वपूर्ण ग्रंथ, आज कथित उदारता और विकास के दौर में खतरनाक विस्फोटक सामग्री जैसा माना जा सकता है।

'धर्म' की पृष्ठभूमि पर रचित कौटिल्य का 'अर्थशास्त्र', वस्तुतः 'राजनीति' का ग्रंथ है। यह अपने आप में स्पष्ट करता है कि यदि समाज का ढांचा आपसी मानवीय संबंध के ताने-बाने पर खड़ा होता है तो वृहत्तर सामाजिक प्रसंग, धर्मसत्ता, अर्थसत्ता और राजसत्ता के माध्यम से आकार लेते हैं, इसलिए इन तीनों सत्ताओं का आपसी तालमेल स्वाभाविक है। पुस्तक में विश्लेषण के ऐसे संकेत लगातार विद्यमान हैं और जहां भी विशेषकर राजसत्ता और धर्मसत्ता का घालमेल हुआ है, उसे प्रखर टिप्‍पणी सहित रेखांकित किया गया है। 'अर्थ' की जमीन पर खड़े 'राज' के सिर पर 'धर्म' का वितान होता है, यह समाज की सम्यक दशा भी मानी जा सकती है, किन्तु इसका व्यतिक्रम कैसे बखेड़े पैदा करता है, उसका दस्तावेज यह पुस्तक है।

पुस्तक का एक महत्वपूर्ण और विचारणीय पक्ष विधायिका, कार्यपालिका से आगे न्यायपालिका और सबसे ऊपर जनता की आवाज पर बातें हैं। प्रजातंत्र के चौथे स्तंभ, अखबार से यह अपेक्षा भी स्वाभाविक है। न्यायपालिका के हस्तक्षेप की स्थिति निर्मित होना या अनावश्यक न्यायपालिका का मुंह ताकना, इस पर उच्चतम न्यायलय द्वारा एकाधिक बार टिप्पणी की जा चुकी है। इस दौर में यह भी गंभीर विचारणीय प्रश्न है कि घटनाएं और मीडिया की खबरें यदि झुठलाई नहीं जा सकती, तो क्या वे इतनी भी सच होती हैं कि उसे जनता की आवाज मान लिया जाय ॽ हाल के अनुभव से तो घटनाएं, और विशेषकर मीडिया में स्थान प्राप्त घटनाएं, जनता की आवाज का सच नहीं मानी जा सकतीं। यदि एक हकीकत यह है कि घटनाओं का विस्तार अक्सर आयोजित-प्रायोजित होता है, स्वाभाविक नहीं, तो दूसरी तरफ मीडिया के लिए 'उन्माद' की तुलना में 'सद्‌भाव' के खबर बनने की संभावनाएं भी कम होती हैं, यह संकट भी दिनों-दिन गहरा रहा है। धर्मरहित व्यक्ति के लिए धर्म-निरपेक्षता का ढोंग आसान होता है और गैर के धर्म की निंदा के लिए भी यही नकाब काम आसान करता है। मीडिया की तटस्थता और निष्पक्षता का नकाब, रोमांचक और आकर्षक खबर परोसने की राह आसान बना देता है। (बड़े खर्च के साथ मौके पर पहुंच कर सनसनी वाली खबर न निकले, तो बात कैसे बनेगी ॽ)

धर्म की उत्पत्ति भय से हुई है, इस पर मतैक्य नहीं है, किन्तु इसमें कोई दो मत नहीं कि इतिहास में बारम्बार और इस दौर में विशेषकर धर्म के साथ संकट, आशंका और भयोन्माद का माहौल रचकर धर्म के फलने-फूलने की तैयारी दिखायी देती है। ऐसा लगता है मानों हमारे देश में दैनंदिन जीवन की आवश्यकताओं के लिए सभी संतुष्ट हैं, अन्यथा मानसिक रूप से स्वावलम्बी स्थिति है, क्योंकि ऐसे कारक सामाजिक स्तर पर संवेदना के कारण नहीं बन पाते, किन्तु धार्मिक मामलों में पूरा देश बहुत जल्दी आश्रित होकर किसी व्यक्ति, किसी मुद्‌दे, किसी अफवाह की गिरफ्त में आ जाता है। यदि सामाजिक गतिशीलता के मुद्‌दे रोजमर्रा की जरूरतें हों, तब शायद स्थिति बदल सकती है।

फिर भी जैसा कि पुस्तक के आरंभ में कहा गया है कि इसमें सांप्रदायिकता और धर्मांधता के खिलाफ लिखे गए लेख संकलित हैं। समाचार पत्र में समय-समय पर छपे इन लेखों की अंतरधारा स्पष्ट है और इसका पुस्तकाकार प्रकाशित होना स्वागतेय है, क्योंकि इन लेखों का महत्व दैनिक और स्फुट मात्र नहीं, बल्कि दीर्घकालिक और स्थायी स्वरूप का है।

सन 2002 में पाठक मंच, बिलासपुर के लिए मेरे द्वारा तैयार की गई, अब तक अप्रकाशित पुस्‍तक चर्चा। लगा कि पुस्‍तक न पढ़ पाए हों, उनके लिए स्‍वतंत्र लेख की तरह पठनीय है, सो अब यहां प्रस्‍तुत।

40 comments:

  1. पुस्तक चर्चा पढ़ना अच्छा लगा. पुस्तक कहीं मिली तो पढ़कर देखेंगे. लेकिन सच कहें तो यह सब पढ़कर अब मन ऊब गया-सा है.

    ReplyDelete
  2. पैसे के मामले में सबका मजहब एक है ।

    धर्म की उत्पत्ति भय से हुई है... राज ही रहने दे नहीं तो गुनाहगारों के हौसले और बुलन्‍द होगें ☺

    ReplyDelete
  3. पुस्तक निस्संदेह अच्छी होगी.. सत्यार्थ प्रकाश उतना ही प्रासंगिक आज भी है जितना पहले था, बस बदला है तो वोटबैंक के चलते लोगों की मानसिकता. अन्यथा जो चीजें पहले तेग के जरिये हो रही थीं आज वोट के जरिये..

    ReplyDelete
  4. सच कहा, मानवीय सम्बन्धों के धरातल पर ही बड़ी बड़ी परिकल्पनायें निर्मित हों।

    ReplyDelete
  5. प्रस्तुत पुस्‍तक चर्चा अपने आप में समस्त पुस्तक का सिंहावलोकन है।

    "धर्मरहित व्यक्ति के लिए धर्म-निरपेक्षता का ढोंग आसान होता है और गैर के धर्म की निंदा के लिए भी यही नकाब काम आसान करता है।"
    यथार्थ विश्लेषण!!

    ReplyDelete
  6. जो आपने बताया, उससे तो लग ऐसा ही रहा है की पुस्तक भी बहुत अच्छी होगी, पुस्तक तो खैर पढ़ नहीं पाया...आपकी पोस्ट से ही फ़िलहाल काम चला लेता हूँ.

    ReplyDelete
  7. लगता है पुस्तक रोचक होगी। धन्यवाद जानकारी के लिये।

    ReplyDelete
  8. सबको सन्मति दे भगवान् -पुस्तक परिचय के लिए आभार
    राजनीति और धर्म का घातक मेल -सच है !

    ReplyDelete
  9. — जब मैंने गांधी द्वारा गाया भजन 'सबको सन्मति दे भगवान्' ... दलित सभा में गाया तो कुछ अधिक पढ़े दलितों ने सोचा कि गीत में 'दलितों के प्रति दुर्भावना व्यक्त है. गीतकार मानता है कि सभी दलितों में दुरमति वास करती है.
    — जब मैंने यही भजन कव्वाली रूप में मुशायरे में सुनाया तो कुछ अधिक पढ़े हजरात ने सोचा कि कव्वाली में 'मुस्लिम्स के प्रति दुर्भावना व्यक्त है. कव्वाल मानता है कि सभी मुसलमानों में दुरमति रहती है.
    — जब मैंने यही भजन पडौस के कीर्तन में सुनाया तो कुछ अधिक पढ़ी महिलाओं ने सोचा कि जानबूझकर महिलाओं को बदनाम करने की कोशिश है भजन-उपदेशक महिलाओं में मति की कमी मानता है. सभी को सम+मति यानी 'बराबर मति' की कामना है.

    ...... हर वर्ग के पढ़े-लिखे जो समझा-बुझा देते हैं ... आमजन वही समझते हैं. ... फिर होती है साम्प्रदायिक, जातिगत राजनीति. ..... आरक्षण का खेल. यही वर्ग तो हैं जो उकसाए जाते हैं. भड़काए जाते हैं. इनमें अपनी-अपनी बुद्धि नहीं. केवल कुछों के द्वारा संचालित किये जाते हैं.

    ReplyDelete
  10. बढ़िया पुस्तक चर्चा.. पढने की जिज्ञासा हो रही है .. जब पुस्तक आएगी तो जरुर जानकारी दीजियेगा..

    ReplyDelete
  11. mere jaise aalsi ke liye kash hamesha koi pustako ka kathya parosata rahe
    dhanyavad ......
    sunil chipde

    ReplyDelete
  12. मायाराम सुरजन की पुस्तक की सारगर्भित विवेचना पढ़कर अच्छा लगा।

    ReplyDelete
  13. बढ़िया पुस्तक चर्चा| धन्यवाद|

    ReplyDelete
  14. इस समीक्षा ने पुस्तक रुचि जगा दी। बेहतरीण समीक्षा।
    आज भी समय है बापू के दिखाए मार्ग पर चलने का। दिनिया जो भटक गई है, सद्‌पथ भूल चुकी है, उलझन में पड़ी हुई है, -- उसे सही और सच्चे रास्ते पर बढना है तो बापू का दिखाया रास्ता - मानवीय समता का राजमार्ग पकड़ना ही होगा।

    ReplyDelete
  15. सबसे पहले तो धर्म सापेक्षता और धर्म निरपेक्षता की बात - मथाई साहब की लिखी पुस्तक 'all that glitters.....' पढ़ी थी कई साल पहले उसकी याद आ गई।
    आपके द्वारा दी गई समीक्षा जबरदस्त लगी ही, प्रतुल जी का कमेंट भी अनूठा है।

    ReplyDelete
  16. बहुत ही सुंदर प्रस्तुति ओर सुंदर समीक्षा, धन्यवाद

    ReplyDelete
  17. bahut achchha laga surjan ji ki pustak ka sar padh kar pustak mili to jarur padhe ka man hai ,aap ne bahut achchhe se prstut kiya hai .

    ReplyDelete
  18. बढ़िया जानकारी मिली ! मायाराम जी को शुभकामनायें !!

    ReplyDelete
  19. आपके लेख से में पूरी तरह से सहमत हूँ की समाज में घट रही घटना किसी एक तथ्य पर टिकी नहीं होती उसमें सब बातों का मिला जुला कारण अवश्य होता है जैसे की धर्म की अपने बात की .................धर्म की उत्पत्ति भय से हुई है, इस पर मतैक्य नहीं है, किन्तु इसमें कोई दो मत नहीं कि इतिहास में बारम्बार और इस दौर में विशेषकर धर्म के साथ संकट, आशंका और भयोन्माद का माहौल रचकर धर्म के फलने-फूलने की तैयारी दिखायी देती है। ऐसा लगता है मानों हमारे देश में दैनंदिन जीवन की आवश्यकताओं के लिए सभी संतुष्ट हैं, अन्यथा मानसिक रूप से स्वावलम्बी स्थिति है, क्योंकि ऐसे कारक सामाजिक स्तर पर संवेदना के कारण नहीं बन पाते, किन्तु धार्मिक मामलों में पूरा देश बहुत जल्दी आश्रित होकर किसी व्यक्ति, किसी मुद्‌दे, किसी अफवाह की गिरफ्त में आ जाता है। यदि सामाजिक गतिशीलता के मुद्‌दे रोजमर्रा की जरूरतें हों, तब शायद स्थिति बदल सकती है।

    और ये बात भी सच है ....................... मीडिया की तटस्थता और निष्पक्षता का नकाब, रोमांचक और आकर्षक खबर परोसने की राह आसान बना देता है। (बड़े खर्च के साथ मौके पर पहुंच कर सनसनी वाली खबर न निकले, तो बात कैसे बनेगी ॽ) और जब बात ही नहीं बनेगी तो फिर कमी कैसे होगी ? तो सारी बातों की एक बात की हर कोई एक दुसरे को सिर्फ भुनाने में लगा हुआ है |
    आपका लेख हमें सच में बहुत अच्छा लगा |

    ReplyDelete
  20. किताब काफी महत्वपूर्ण और प्रासंगिक लगती है.. और आने वाले समय में भी इसकी प्रासंगिकता कम होने वाली नहीं.. क्योंकि हमारे पूरे (सिंधु सभ्यता)क्षेत्र में धर्म (और साथ ही धर्मान्धता भी) सामाजिक और राजनीतिक जीवन से किसी न किसी रूप में जुड़ा रहा है और शायद आगे भी ऐसा रहेगा.. इसलिए इन लेखों का सर्वकालिक महत्व है...

    ReplyDelete
  21. सारगर्भित पुस्तक चर्चा....बहुत ही महत्वपूर्ण और पठनीय पुस्तक होगी...हाल की घटनाओं को विस्तार से जानने और उसके हर पक्ष को तटस्थ नज़रिए से देखने का मौका मिलेगा.

    ReplyDelete
  22. ज्वलंत वैचारिक मुद्दों पर आधारित पुस्तक 'सबको सन्मति दे भगवान' पर आपकी सारगर्भित विवेचना सत्य को साँस दर साँस अनुभव करने जैसी है !

    ReplyDelete
  23. पुस्तक की विषयवस्तु और आपके द्वारा प्रस्तुत पुस्तक परिचय दोनों प्रशंसा के पात्र हैं!!आभार!!

    ReplyDelete
  24. अच्छी समीक्षा हुई है। पढ़ने की जिज्ञासा पैदा हुई।

    ReplyDelete
  25. This comment has been removed by the author.

    ReplyDelete
  26. भला कोई तो है जिसे गांधी जी का ख्याल इस तरह से है !

    ReplyDelete
  27. राहुल जी बहुत सही कहा आपने आज हमारी ''सारी सांस्कृतिक परम्पराएं जैसे राजनीतिक एवं सामाजिक वहशीपन का शिकार होती जा रही है।'' सांप्रदायिकता और धर्मांधता के जरिये निहित स्वार्थ की पूर्ति बहुत आसान होती है.धर्मरहित व्यक्ति के लिए धर्म-निरपेक्षता का ढोंग आसान होता है क्योंकि उसका प्रयोग वह अपनी छवि आवृत करने के लिए करता है.दूसरे शब्दों में कहें तो भेडिये को आसानी से भेड़ की खाल मिल जाती है. बहुत प्रेरक लेख है लेकिन हमारी समझ काफी ऊपर की चीज है.कुछ गलत समझा हो तो माफ़ी चाहूँगा.आपके लेखन से बहुत कुछ सीखने को मिलता है.

    ReplyDelete
  28. मीडिया भी आज के बाज़ार का एक हिस्सा है ....ओर अब धार्मिक व्यक्ति मुझे भयभीत करने लगे है ......

    ReplyDelete
  29. mere muhalle ko khudai walo ne charo taraf se harappa ki tarah khod daala hai. kuch khaas to nahi mila par net connection chala gaya. net judne par poori tippani karunga. pahli nazar men mazedaar hai.

    ReplyDelete
  30. पुस्तके तो मनुष्य की मित्र होती हैं परन्तु हम इन्हें मित्र न बना सके

    ReplyDelete
  31. आदरणीय मायाराम सुरजन जी से उनके प्रेस में एक बार मिलने का अवसर मिला था और अभिभूत भी हुआ. आपकी समीक्षा भी बहुत कुछ कह जाती है. बहुत सुन्दर.

    ReplyDelete
  32. राहुल जी निःसन्देह जब समीक्षा इतनी ज़बरदस्त की है आपने तो पुस्तक का कलेवर लाजवाब होगा...पेशे से मैं भी एक पत्रकार हूँ लिहाज़ा मीडिया के नक़ाबधारी पक्ष से मैं वाबस्ता हूँ..फिलहाल क़िताब की प्रतिक्षा रहेगी..

    ReplyDelete
  33. ज्ञानवर्धन कराती इस बेहतरीन समीक्षा के लिए आभार ।सबको सन्मति दे प्रभु ।

    ReplyDelete
  34. आपकी चर्चा बेहद रोचक... और यही पुस्तक के रोचक होने का प्रमाण भी है...
    वाकई गांधी जी को याद रखने वाले कम हैं, परन्तु जो हैं वो पक्के हैं...

    ReplyDelete