# इमर # पोंड़ी # हीरालाल # हिन्दी का तुक # त्रयी # अखबर खान # स्थान-नाम # पुलिस मितानी # रामचन्द्र-रामहृदय # अकलतराहुल-072016 # धरोहर और गफलत # अस्सी जिज्ञासा # अकलतराहुल-062016 # सोनाखान, सोनचिरइया और सुनहला छत्‍तीसगढ़ # बनारसी मन-के # राजा फोकलवा # रेरा चिरइ # हरित-लाल # केदारनाथ # भाषा-भास्‍कर # समलैंगिक बाल-विवाह! # लघु रामकाव्‍य # गुलाबी मैना # मिस काल # एक पत्र # विजयश्री, वाग्‍देवी और वसंतोत्‍सव # बिग-बॉस # काल-प्रवाह # आगत-विगत # अनूठा छत्तीसगढ़ # कलचुरि स्थापत्य: पत्र # छत्तीसगढ़ वास्तु - II # छत्तीसगढ़ वास्तु - I # बुद्धमय छत्तीसगढ़ # ब्‍लागरी का बाइ-प्रोडक्‍ट # तालाब परिशिष्‍ट # तालाब # गेदुर और अचानकमार # मौन रतनपुर # राजधानी रतनपुर # लहुरी काशी रतनपुर # रविशंकर # शेष स्‍मृति # अक्षय विरासत # एकताल # पद्म पुरस्कार # राम-रहीम # दोहरी आजादी # मसीही आजादी # यौन-चर्चा : डर्टी पोस्ट! # शुक-लोचन # ब्‍लागजीन # बस्‍तर पर टीका-टिप्‍पणी # ग्राम-देवता # ठाकुरदेव # विवादित 'प्राचीन छत्‍तीसगढ़' # रॉबिन # खुसरा चिरई # मेरा पर्यावरण # सरगुजा के देवनारायण सिंह # देंवता-धामी # सिनेमा सिनेमा # अकलतरा के सितारे # बेरोजगारी # छत्‍तीसगढ़ी # भूल-गलती # ताला और तुली # दक्षिण कोसल का प्राचीन इतिहास # मिक्‍स वेज # कैसा हिन्‍दू... कैसी लक्ष्‍मी! # 36 खसम # रुपहला छत्‍तीसगढ़ # मेला-मड़ई # पुरातत्‍व सर्वेक्षण # मल्‍हार # भानु कवि # कवि की छवि # व्‍यक्तित्‍व रहस्‍य # देवारी मंत्र # टांगीनाथ # योग-सम्‍मोहन एकत्‍व # स्‍वाधीनता # इंदिरा का अहिरन # साहित्‍यगम्‍य इतिहास # ईडियट के बहाने # तकनीक # हमला-हादसा # नाम का दाम # राम की लीला # लोक-मड़ई और जगार # रामराम # हिन्‍दी # भाषा # लिटिल लिटिया # कृष्‍णकथा # आजादी के मायने # अपोस्‍ट # सोन सपूत # डीपाडीह # सूचना समर # रायपुर में रजनीश # नायक # स्‍वामी विवेकानन्‍द # परमाणु # पंडुक-पंडुक # अलेखक का लेखा # गांव दुलारू # मगर # अस्मिता की राजनीति # अजायबघर # पं‍डुक # रामकोठी # कुनकुरी गिरजाघर # बस्‍तर में रामकथा # चाल-चलन # तीन रंगमंच # गौरैया # सबको सन्‍मति... # चित्रकारी # मर्दुमशुमारी # ज़िंदगीनामा # देवार # एग्रिगेटर # बि‍लासा # छत्‍तीसगढ़ पद्म # मोती कुत्‍ता # गिरोद # नया-पुराना साल # अक्षर छत्‍तीसगढ़ # गढ़ धनोरा # खबर-असर # दिनेश नाग # छत्तीसगढ़ की कथा-कहानी # माधवराव सप्रे # नाग पंचमी # रेलगाड़ी # छत्‍तीसगढ़ राज्‍य # छत्‍तीसगढ़ी फिल्‍म # फिल्‍मी पटना # बिटिया # राम के नाम पर # देथा की 'सपनप्रिया' # गणेशोत्सव - 1934 # मर्म का अन्‍वेषण # रंगरेजी देस # हितेन्‍द्र की 'हारिल'# मेल टुडे में ब्‍लॉग # पीपली में छत्‍तीसगढ़ # दीक्षांत में पगड़ी # बाल-भारती # सास गारी देवे # पर्यावरण # राम-रहीम : मुख्तसर चित्रकथा # नितिन नोहरिया बनाम थ्री ईडियट्‌स # सिरजन # अर्थ-ऑवर # दिल्ली-6 # आईपीएल # यूनिक आईडी

Monday, March 19, 2012

ताला और तुली

सन 2003, अप्रैल की पहली तारीख, बिलासपुर में अपनी पुस्तक ''इंडिया इन स्लो मोशन'' पर व्याख्‍यान में मार्क तुली ने मापी-तुली, लेकिन जरा मजाकिया ढंग से बातें कहीं, सवाल-जवाब भी हुए। कार्यक्रम के बाद चाय पर चर्चा के लिए कुलपति गिरिजेश पंत जी ने मुझे रोक लिया। बातचीत के दौरान अपने शहर आए मेहमान के लिए मेजबान बनते हुए मैंने अगले दिन का कार्यक्रम जानना चाहा, पता चला कि दोपहर भोजन के बाद अमरकंटक के लिए रवानगी होगी। सुबह के खाली समय में 'ताला' देख लेना तय हुआ और यह जिम्मेदारी स्वाभाविक ही मुझ पर आई।

अगली सुबह बातें होती रहीं। आपरेशन ब्लू स्टार, अयोध्या विवाद, भोपाल गैस त्रासदी जैसे नाजुक मौकों पर और खास कर आपातकाल के दौरान बीबीसी ट्‌यून करने की याद अधिक आती। किस तरह हमारे लिए मार्क तुली का नाम बीबीसी का पर्याय रहा। 1977 के विधानसभा चुनावों में बिलासपुर जिले के 19 सीटों में से 13 पर कांग्रेस और 6 पर जनता पार्टी के प्रत्याशी विजयी हुए थे, इस पर बीबीसी की टिप्पणी थी- ''मध्यप्रदेश का बिलासपुर अनूठा जिला है जिसने पूरे देश से अलग फैसला दिया है। मैंने यह भी याद दिलाया कि इसी चुनाव में यहां एक ऐसे प्रत्याशी जीते, जो परचा भरने के पहले से परिणाम आने के बाद तक इलाज के लिए बंबई के अस्पताल में भरती रहे, अकलतरा क्षेत्र से राजेन्द्र कुमार सिंह जी।

आगे बातों में जेनकिन्‍स, एग्‍न्‍यू, टेम्‍पल, चीजम, नेलसन, डि-ब्रेट, कनिंघम, बेग्‍लर, वी बॉल और फॉरसिथ, रसेल आदि ब्रिटिश अधिकारियों की रिपोर्ट्‌स-पुस्‍तकें के साथ विलियम डेलरिम्पल के लेखन से उनके लिखे की तुलना होती रही, किसमें कितनी समझ, आत्मीयता और गहराई है। कौन तथ्यपूर्ण है, किसका विश्लेषण और किसकी व्याख्‍या कितनी सटीक मानी जा सकती है, आदि। इस दौरान उनकी सह-लेखिका मित्र जिलियन राइट भी साथ थीं, पता चला कि वे न सिर्फ हिन्दी बोल-लिख पाती हैं, बल्कि आंचलिक उपन्यासों का गहराई से अध्ययन और प्रसिद्ध 'राग दरबारी' का अंग्रेजी में अनुवाद भी किया है। हम ताला पहुंच गए, रूद्र शिव प्रतिमा के सामने।
भारतीय कला के डेढ़ हजार साल पुराने इस अनूठे कला केन्‍द्र की रूद्रशिव कही जाने वाली रौद्रभाव की यह भारी-भरकम प्रतिमा ढाई मीटर से अधिक ऊंची है। इसे महाशिव, परमशिव या पशुपतिनाथ भी कहा गया है। सिर पर नागयुग्म की भारी पगड़ी है। जीव-जन्तुओं से रूपान्तरित चेहरे के विभिन्न अवयवों के साथ वक्ष पर दो, उदर पर एक तथा जांघ पर चार मानव मुखों के अतिरिक्त दोनों घुटनों पर सिंह मुख अंकित हैं। ठुड्‌ढी-दाढ़ी पर केकड़ा, मूंछ के स्थान पर दो मछलियां तथा नाक व भौंह का रूप गिरगिट का है। आंख की पलकें मेढक या सिंह का मुखविवर और नेत्र गोलक अंडे हैं। कान के स्थान पर मोर, कंधे मकर मुख, भुजाएं हाथी के सूंढ सदृश और हाथों की उंगलियों पर सर्पमुख हैं। शिव के स्वधिष्ठित संयमी पुरूष, पशुपति रूपांकन में कछुए के गर्दन और सिर को उर्द्धरेतस और अंडकोष को घंटी सदृश लटके हुए जोंक आकार दिया गया है।
मार्क तुली ने छत्‍तीसगढ़ डायरी शीर्षक से 21 अप्रैल 2003 के आउटलुक में लिखा।
ताला और इस मूर्ति पर जिलियन राइट ने अपनी टिप्पणी का आरंभ हिन्दी से किया और मार्क तुली ने लिखा-

We were delighted to be shown this unique image. Neither of us have ever seen anything similar to it. There is also so much else to see here. Being a remote site and on the banks of a perennial river Tala still retain a peacefulness a tranquility, denied to better known sites. It may be rather selfish to say this, I personally can't help hoping it never makes it to tourist map.
We were particularly privileged to be shown the site by Shri Rahul Kumar Singh who has such a deep knowledge of all that there is to see.
Mark Tully
2/4/2003

संयोग ही था कि कागजात खोजते हुए यह मिल गया। आखिरी वाक्य- 'पंच लाइन', पर ध्यान गया तो सहेजना और सार्वजनिक करना जरूरी लगा, वैसे भी सर मार्क तुली जैसे पत्रकार के लिखे को प्रकाशित करने का अवसर जो मिल रहा है।

इस एक प्रतिमा पर पूरी पुस्‍तक भी छपी है, ताला के कुछ अच्‍छे फोटोग्राफ्स और जानकारियां यहां हैं।

44 comments:

  1. "....Shri Rahul Kumar Singh who has such a deep knowledge of all that there is to see."

    सत्यवचन!

    तुली जैसे पारखी को रत्न पहचानना आता है।

    अति सुन्दर संस्मरण!

    ReplyDelete
  2. एकदम सही कहा अवधिया जी ने.

    ReplyDelete
  3. आज आपके ब्लॉग पर बहुत दिनों बाद आना हुआ. अल्प कालीन व्यस्तता के चलते मैं चाह कर भी आपकी रचनाएँ नहीं पढ़ पाया. व्यस्तता अभी बनी हुई है लेकिन मात्रा कम हो गयी है...:-)

    मार्क तुली साहब ने आपके लिए जो कहा वो गलत नहीं है...अद्भुत मूर्ती की व्याख्या की है आपने...शुक्रिया

    नीरज

    ReplyDelete
  4. अवधिया जी ने तो हमारे कहने के लिये कुछ छोड़ा ही नही । और आपकी लेखनी के तो हम प्रशंसक है ही।

    ReplyDelete
  5. मार्क तुली ने पत्रकारिता में अलग मुकाम कायम किया था.आज भी उन्हें हिंदुस्तान भाता है,यहीं रहते हैं और कई मुद्दों पर अपनी राय दिया करते हैं.
    आपसे उनकी मुलाक़ात हो पाई,इस मामले में आप भाग्यशाली रहे !

    ReplyDelete
  6. मार्क तुली के साथ के संस्मरण अनमोल |
    धन्यवाद है आपको, तथ्य रखें सब खोल ||

    ReplyDelete
  7. हम गदगद हो गए. अपनों की प्रशस्ति/कीर्ति अपनी सी ही लगती है.

    ReplyDelete
  8. ताला का रहस्य उजागर कराने के लिये अतिशय आभार, माध्यम तुली साहब रहे।

    ReplyDelete
  9. ताला स्थित देवरानी जेठानी मंदिर में रूद्र शिव प्रतिमा का
    दर्शन का शौभाग्य मिला आपके सौजन्य से आभार अब मार्क तुली जी के संग बिताये आपके अन्तरग छनों के याद ने एक बार फिर
    यात्रा को सुखद बना दिया और जीवंत कर दिया .सुन्दर संस्मरण के लिए बधाई

    ReplyDelete
  10. मार्क टुली भारत में बीबीसी के पर्याय बन गए थे। एतिहासिक दस्तावेजों के संग्रहण में आपका कोई सानी नहीं है। मार्क टुली ने आपके विषय में सही कमेंट किया है……… शुभकामनाएं

    ReplyDelete
  11. 1977 के चुनाव का अनोखा संस्मरण आप ने वर्णित किया है . अवगत नहीं था .
    19 ---फिर 13 --- फिर 1.
    बीमारी और डाक्टर तथा अस्पताल के विषय में भी बताते .आप तो घटना से सीधे तौर पर जुड़े हैं ..

    ReplyDelete
  12. जानकारियॉं समृध्‍द करनेवाला आत्‍मीय संस्‍मरण। अभी से तैयार हो जाइएगा - हम भी पंच लाइन देने की तैयारी में हैं कि हमारी पोस्‍टों पर राहलु सिंहजी भी टिप्‍पणियॉं अंकित करते थे।
    मुझे ऐसा क्‍यों लग रहा है कि इस पोस्‍ट में प्रकाशित यह चित्र मैं पहले ही, आपकी ही किसी पोस्‍ट पर देख चुका हूँ?

    ReplyDelete
    Replies
    1. पंच लाईन देने की स्थिति में तो नहीं हैं लेकिन अपने प्रोफ़ाईल में हम भी ऐसा लिखने की सोच रहे हैं:)

      Delete
  13. मार्क टुली साहब ने आज से नौ साल पहले ऐसा कहा था, ये हमने आज जाना। उनकी बात को अपनी सोच का एंडोर्समेंट मानें या अपनी सोच को उनकी बात का एंडोर्समेंट, अपन कन्फ़्यूज़्ड हैं:)
    अच्छा, बहुत अच्छा, बहुत बहुत अच्छा लगा।

    ReplyDelete
  14. आपके आलेख हमारे लिए इतिहास का नया द्वार खोलते हैं.. मार्क तुली और रस्किन बौंड जैसे नाम उतने ही भारतीय हैं जितने पुष्पेश पन्त और आर.के.नारायण...
    सचमुच आपके नाम का उल्लेख वास्तव में एक ऐक्नौलेज्मेंट है मार्क तुली द्वारा!!

    ReplyDelete
  15. मार्क तुली चाहे टुली!
    बढिया!

    ReplyDelete
  16. सर, ताला के सम्बन्ध में आपकी बातों को आज मै पहले से कुछ बेहतर समझ पा रहा हूँ.
    बीते शनिवार एक ही झोंके में ताला, मदकू, सरगांव और बिल्हा के पास एक और प्राचीन शिव मंदिर( गाँव का नाम याद नहीं आ रहा) देख आया.

    ReplyDelete
  17. आपकी इस प्रविष्टी की चर्चा आज के चर्चा मंच पर की गई है।
    चर्चा में शामिल होकर इसमें शामिल पोस्ट पर नजर डालें और इस मंच को समृद्ध बनाएं....
    आपकी एक टिप्पिणी मंच में शामिल पोस्ट्स को आकर्षण प्रदान करेगी......

    ReplyDelete
  18. आपको पढ़ना ही सुखद होता है ! रोचक जानकारी सहित अनूठी प्रस्तुति .. उम्मीद है कभी हम भी प्रिविलेज्ड होंगें :)

    ReplyDelete
  19. Intriguing post. I want to visit Tala, went there when i was too young.

    ReplyDelete
  20. आप के द्वारा उद्घाटित इस प्रकार की अनोखी जानकारियाँ अपनी संस्क़ति में पैठ बढ़ाती हैं . शिव की 'पशुपति'संज्ञा को रूपायित करती यह मूर्ति कितनी अद्भुत है !
    आभार!!

    ReplyDelete
  21. मार्क तुली जाना पहचाना नाम है ! उनका लिखा पढना सुखद रहा !

    ReplyDelete
  22. राहुल जी,
    इस प्रतिमा का शब्दों में खूबसूरत वर्णन आप ने किया है। पर इस प्रतिमा को यह स्वरूप देने का अर्थ क्या हो सकता है? इस पर और प्रकाश डाला होता।

    ReplyDelete
  23. चित्रों वाला लिंक जोड़ कर आप ने सब की जानकारी में वृद्धि कर दी है।

    ReplyDelete
  24. मैं भी स्तंभित हूँ....और आप महाराज तो प्रशस्त अतीत की धनी हैं !
    पहले तो मुझे काल भैरव की श्रृंगार छवि लगी .मगर पशुपतिनाथ के उद्बोधन से पर्दा साफ़ है -यह शिव ही हैं ..
    क्योकि अन्य किसी का ऐसा पशु सामीप्य तो है नहीं -दत्तात्रेय भी नहीं लगते ...
    तंत्र साधना से भी अगर कोई सम्बन्ध है तो भी उदगम शिव ही है ...
    चलिए राहुल सिंह साहब की बात मान लेते हैं ये पशुपतिनाथ ही हैं
    और कोई बात समझ नहीं आ रही ?
    अब मार्क तुली के आगे हम सब को मत छोड़ दीजियेगा?

    ReplyDelete
  25. तुली का टीप बिल्‍कुल सही....हम सब के लिए गौरव............

    ReplyDelete
  26. मेरे लिए बहुत ही रोचक जानकारी, मैंने पहले कभी सुना नहीं था . चित्र भी बहुत खुबसूरत और बहुत कुछ सोचने पे मजबूर करने वाले हैं.
    बहुत खूब,

    ReplyDelete
  27. महत्वपूर्ण व रोचक संस्मरण..

    ReplyDelete
  28. आपकी व्याख्या सदा की भांति विश्वसनीय और उत्कृष्ट है. यह प्रतिमा या उसकी प्रतिकृति मैंने बरसों पहले भोपाल के राजकीय संग्रहालय में देखी थी.
    तुली साब को हिंदी में बातें करते देखना बड़ा भाता है. अब तो वे कहीं नदारद से हो गए हैं.

    ReplyDelete
  29. मार्क टुली का कथन गौरवान्वित करने वाला है...
    आपके दस्तावेजी आलेख घरोहर हैं सर....
    सादर बधाई...

    ReplyDelete
  30. बहुत अच्छा लगा यह पोस्ट पढ़कर।

    ReplyDelete
  31. बहुत महत्वपूर्ण ऐतिहासिक जानकारी .....

    ReplyDelete
  32. राहुल भैया ब्लॉग पढ़ने के बाद ऐसा लगा कि एक जगह जो निश्चित ही मुझे देखनी चाहिए छुट रही है ताला की रूद्र शिव प्रतिमा के बारे में पढ़ा जरुर है निकट भविष्य में देखने का भी अवसर आएगा ऐसा लगता है किन्तु आप जैसा जानकर कंहाँ होगा उम्दा ब्लॉग

    ReplyDelete
  33. उज्‍जवल दीपक जी का ईमेल-
    Very interesting to get this enriching information about Tala. It must have been a privilege to be with Mark Tully!!

    ReplyDelete
  34. .


    रोचक जानकारी !
    बढिया प्रस्तुति !
    बेहतरीन पोस्ट के लिए आभार !!


    ReplyDelete
  35. आभार, धन्यवाद जैसे शब्द कितने जीर्ण हो सकते हैं यही आकर जान पाता हूँ।
    मुग्ध हूँ राहुल जी!

    ReplyDelete
  36. आप तो छत्तीसगढ के विशेषज्ञ हैं कहां कहां से खोजते हैं ये स्थल । रुद्रशिव की ये अनोखी प्रतिमा को देख कर और पढ कर विस्मित रह गई । तूली साहब ने जो आपके बारे में कह सच है एकदम ।

    ReplyDelete
  37. वाह ! मार्क तुली की तो २-३ पुस्तकें पढ़ी है.
    ताला के बारे में जानकारी नहीं थी :)

    ReplyDelete
  38. Bahut khub.. rahul ji apke blog jiwan me rochakta la dete hai.. behtarin jankari ke liye abhar..

    ReplyDelete
  39. मार्क तुली ने तो अपना अलग स्थान बनाया ही है, हमारे लिये तो आप भी कोई कम नही हैं। मूर्ति एकदम अलग सी है।

    ReplyDelete
  40. पिछले कुछ दिनों से अधिक व्यस्त रहा इसलिए आपके ब्लॉग पर आने में देरी के लिए क्षमा चाहता हूँ............!!!
    बहुत ही रोचक जानकारी, मैंने पहले कभी नहीं सुना खुबसूरत चित्र महत्वपूर्ण व रोचक संस्मरण......आभार राहुल जी

    ReplyDelete
  41. " पशुपतिनाथ " की प्रतिमा जब मैं देखी थी , उस समय मुझे कुछ समझ में नहीं आया था । आज इस पोस्ट को पढ कर , मेरे मन में जो जिज्ञासा थी , उसका समाधान हुआ है । वस्तुतः इस स्थान को मैं बचपन से " देवरानी-जेठानी " के नाम से जानती हूँ , यह हमारे गॉव 'करही ' के निकट है । ग्रहण-स्नान के लिए हम वहॉ बैलगाडी से जाते थे और चौमास में पैदल भी जाते थे । छत्तीसगढ की धरोहर को सुरक्षित रखना , हम सभी का दायित्व है ,पर हम सोचते हैं कि यह पुरात्तत्ववेत्ता और पर्यावरण विद् का ही दायित्व है यह उचित नहीं है । राहुल जी अपने दायित्व के प्रति सचेत हैं ईश्वर उन्हें लम्बी उमर दे , आरोग्य दे ।

    ReplyDelete