# अभिनव # समाकर्षात् # शहर # इमर # पोंड़ी # हीरालाल # हिन्दी का तुक # त्रयी # अखबर खान # स्थान-नाम # पुलिस मितानी # रामचन्द्र-रामहृदय # अकलतराहुल-072016 # धरोहर और गफलत # अस्सी जिज्ञासा # अकलतराहुल-062016 # सोनाखान, सोनचिरइया और सुनहला छत्‍तीसगढ़ # बनारसी मन-के # राजा फोकलवा # रेरा चिरइ # हरित-लाल # केदारनाथ # भाषा-भास्‍कर # समलैंगिक बाल-विवाह! # लघु रामकाव्‍य # गुलाबी मैना # मिस काल # एक पत्र # विजयश्री, वाग्‍देवी और वसंतोत्‍सव # बिग-बॉस # काल-प्रवाह # आगत-विगत # अनूठा छत्तीसगढ़ # कलचुरि स्थापत्य: पत्र # छत्तीसगढ़ वास्तु - II # छत्तीसगढ़ वास्तु - I # बुद्धमय छत्तीसगढ़ # ब्‍लागरी का बाइ-प्रोडक्‍ट # तालाब परिशिष्‍ट # तालाब # गेदुर और अचानकमार # मौन रतनपुर # राजधानी रतनपुर # लहुरी काशी रतनपुर # रविशंकर # शेष स्‍मृति # अक्षय विरासत # एकताल # पद्म पुरस्कार # राम-रहीम # दोहरी आजादी # मसीही आजादी # यौन-चर्चा : डर्टी पोस्ट! # शुक-लोचन # ब्‍लागजीन # बस्‍तर पर टीका-टिप्‍पणी # ग्राम-देवता # ठाकुरदेव # विवादित 'प्राचीन छत्‍तीसगढ़' # रॉबिन # खुसरा चिरई # मेरा पर्यावरण # सरगुजा के देवनारायण सिंह # देंवता-धामी # सिनेमा सिनेमा # अकलतरा के सितारे # बेरोजगारी # छत्‍तीसगढ़ी # भूल-गलती # ताला और तुली # दक्षिण कोसल का प्राचीन इतिहास # मिक्‍स वेज # कैसा हिन्‍दू... कैसी लक्ष्‍मी! # 36 खसम # रुपहला छत्‍तीसगढ़ # मेला-मड़ई # पुरातत्‍व सर्वेक्षण # मल्‍हार # भानु कवि # कवि की छवि # व्‍यक्तित्‍व रहस्‍य # देवारी मंत्र # टांगीनाथ # योग-सम्‍मोहन एकत्‍व # स्‍वाधीनता # इंदिरा का अहिरन # साहित्‍यगम्‍य इतिहास # ईडियट के बहाने # तकनीक # हमला-हादसा # नाम का दाम # राम की लीला # लोक-मड़ई और जगार # रामराम # हिन्‍दी # भाषा # लिटिल लिटिया # कृष्‍णकथा # आजादी के मायने # अपोस्‍ट # सोन सपूत # डीपाडीह # सूचना समर # रायपुर में रजनीश # नायक # स्‍वामी विवेकानन्‍द # परमाणु # पंडुक-पंडुक # अलेखक का लेखा # गांव दुलारू # मगर # अस्मिता की राजनीति # अजायबघर # पं‍डुक # रामकोठी # कुनकुरी गिरजाघर # बस्‍तर में रामकथा # चाल-चलन # तीन रंगमंच # गौरैया # सबको सन्‍मति... # चित्रकारी # मर्दुमशुमारी # ज़िंदगीनामा # देवार # एग्रिगेटर # बि‍लासा # छत्‍तीसगढ़ पद्म # मोती कुत्‍ता # गिरोद # नया-पुराना साल # अक्षर छत्‍तीसगढ़ # गढ़ धनोरा # खबर-असर # दिनेश नाग # छत्तीसगढ़ की कथा-कहानी # माधवराव सप्रे # नाग पंचमी # रेलगाड़ी # छत्‍तीसगढ़ राज्‍य # छत्‍तीसगढ़ी फिल्‍म # फिल्‍मी पटना # बिटिया # राम के नाम पर # देथा की 'सपनप्रिया' # गणेशोत्सव - 1934 # मर्म का अन्‍वेषण # रंगरेजी देस # हितेन्‍द्र की 'हारिल'# मेल टुडे में ब्‍लॉग # पीपली में छत्‍तीसगढ़ # दीक्षांत में पगड़ी # बाल-भारती # सास गारी देवे # पर्यावरण # राम-रहीम : मुख्तसर चित्रकथा # नितिन नोहरिया बनाम थ्री ईडियट्‌स # सिरजन # अर्थ-ऑवर # दिल्ली-6 # आईपीएल # यूनिक आईडी

Tuesday, July 31, 2012

ब्‍लागजीन

ये कैसे अपने कि अब तक रू-ब-रू भी न हुए, लेकिन अब तो बहुतेरे अपने जाने-पहचाने नाम, लिखे-उचारे शब्‍दों और चित्र के परोक्ष-यथार्थ से ही 'मूर्तमान' होते हैं। ''ब्‍लागर्स पार्क'' के अंक, ऐसे ही एक परिचित, इस पत्रिका से जुड़े, अश्‍फ़ाक अहमद जी के माध्‍यम से देखने को मिले। भोपाल-नोएडा से प्रकाशित पत्रिका का पहला अंक अगस्‍त 2009 में आया था, जिसमें मुख्‍य संपादक की टीप है कि इस पत्रिका को मैगज़ीन के बजाय ब्‍लागज़ीन कहना संगत होगा।
ब्‍लागर्स पार्क के प्रवेशांक का संपादकीय - ताजे अंक का मुखपृष्‍ठ
इस नये शब्‍द 'ब्‍लाग-जीन' का 'ब्‍लाग' भी तो नया शब्‍द ही है। सन 1997 के अंत तक वेब-लॉग web-log बन गया we-blog फिर we छूटा तो बच रहा blog-'ब्‍लॉग' या 'ब्‍लाग'। 'मैगज़ीन' शब्‍द मूलतः संग्रह या भंडार अर्थ देता है सो किताबों को ज्ञान का भंडार मान कर मैगज़ीन कहा जाने लगा, लेकिन वर्तमान मैगज़ीन, उन्‍नीसवीं सदी से सीमित हो कर मात्र पत्रिकाओं के लिए रूढ़ है। इस तरह ब्‍लाग-blog और मैगज़ीन-magzine के मेल से बना, ब्‍लागज़ीन-blogazine। अब ब्‍लागर्स पार्क पत्रिका के मुखपृष्‍ठ पर सबसे ऊपर World's First Blogazine अंकित होता है। सोचना है, ब्‍लागजीन शब्‍द पहले अस्तित्‍व में आया होगा या यह पत्रिका, मुर्गी-अंडा में पहले कौन, जैसा सवाल है।

कुछ और छान-बीन करते ब्‍लाग-जीन के पहले अंश blog शब्‍दार्थ के लिए यहां 56 प्रविष्टियां मिलीं, इसमें से पहली पर गौर फरमाएं- ''Short for weblog. A meandering, blatantly uninteresting online diary that gives the author the illusion that people are interested in their stupid, pathetic life. Consists of such riveting entries as "homework sucks" and "I slept until noon today." और यहीं blog से मिल कर बनने वाले कोई 431 शब्‍द मिले यानि इस पर चर्चा की जाए तो पूरा लेख क्‍या, शास्‍त्र तैयार हो सकता है। इनमें एक Bloggerhood भी है, लगा कि ब्‍लाग संबंधी अन्‍य शब्‍दों सहित 'ब्‍लागबंधु' या 'ब्‍लागबंधुत्‍व' जैसा मिठास भरा शब्‍द हिन्‍दी ब्‍लागिंग में कितना कम प्रचलित है।

ब्‍लागर्स पार्क पत्रिका के ताजे जुलाई 2012 के अंक-28 में कुछ लेखकों के परिचय के साथ 'ब्‍लागर' उल्‍लेख भी है और एक लेखक कुणाल मेहता के परिचय में उनके शहर का नाम और 'ब्‍लागर' मात्र है। नाम के साथ अपनी ब्‍लागर पहचान अपनाए हिन्‍दी ब्‍लागिंग में गिनती के, एक हैं 'ब्‍लॉ.' उपाधिधारी ललित शर्मा और दूसरी बिना लाग लपेट के ब्‍लॉग वाली, ''ब्‍लागर रचना''। ब्‍लागर्स पार्क में www.scratchmysoul.com पर किए गए पोस्‍ट में से चयनित सामग्री विषयवार, सुरुचिपूर्ण, स्‍तरीय और सुंदर चित्रों सहित शामिल की जाती है। अश्‍फ़ाक जी से चर्चा में मैंने छत्‍तीसगढ़ से प्रकाशित दैनिक ''भास्‍कर भूमि'' समाचार पत्र और साप्‍ताहिक पत्रिका ''इतवारी अखबार'' का उल्‍लेख किया, जिनमें नियमित रूप से ब्‍लाग की रचनाएं छापी जाती हैं। छत्‍तीसगढ़ की तीन उत्‍कृष्‍ट वेब पत्रिकाएं ''उदंती डाट काम'', ''रविवार'', ''सृजनगाथा डाट काम'' सहित छत्‍तीसगढ़ के ब्‍लाग एग्रिगेटर ''छत्‍तीसगढ़ ब्‍लागर्स चौपाल'', ''ब्‍लॉगोदय'' और गंभीर हिन्‍दी ब्‍लागरों पर भी बातें हुईं, इन चर्चाओं का सुखद निष्‍कर्ष रहा, उन्‍होंने बताया है कि ब्‍लागर्स पार्क, छत्‍तीसगढ़ की ब्‍लाग गतिविधियों पर खास सामग्री जुटाने, प्रकाशित करने की तैयारी में है।

प्रसंगवश-

अंगरेजी में भी संस्‍कृत की तरह शब्‍दों के लिए, वस्‍तु-व्‍यक्तियों के नामकरण, शब्‍द बनाने-गढ़ने-बरतने का शास्‍त्रीय और कोशीय चरित्र है लेकिन इस दृष्टि से हिन्‍दी कृपण भाषा साबित होती है। मुझे लगता है हम हिन्‍दीभाषी शब्‍द गढ़ने में देर करते हैं, बन गए शब्‍द को जल्‍दी अपनाते नहीं, कई बार अपने-पराये का ज्‍यादा ही मीन-मेख करने लगते हैं या शब्‍द वापरने के बजाय अविष्‍कारक होने के महत्‍वाकांक्षी बन जाते हैं, और शायद इसीलिए शब्‍द को अपना भी लिया तो मानक का सवाल उलझ जाता है।

दैनंदिन लेखा या नियमित अद्यतन किया जाने वाला लेखा 'ब्‍लाग', इस शब्‍दशः अर्थ में मेरी जानकारी में एकमात्र ब्‍लाग ''BACHCHAN BOL'' की जुलाई 30, 2012 की पोस्‍ट ''DAY 1564'' शीर्षक हमेशा की तरह तिथि संख्‍यावार है।

28 comments:

  1. एक नया ही प्रयास होगा, उस प्रवाह को सम्हालने का जो व्यक्त होने को उद्धत है..

    ReplyDelete
  2. वाह! ये तो नयी बात पता चली.. कि भारत में ब्लॉगजीन निकल रही है... बधाई इसके प्रबंधकों को...
    हिन्दी में नए शब्दों को तो छोड़िये कम प्रचलित कठिन शब्दों को भी लोग कम स्वीकारते हैं आजकल..

    ReplyDelete
  3. यह नयी जानकारी है. 'ब्लोगर्स पार्क' के बदले 'ब्लागर्स ब्लागजीन' शायद अधिक उपयुक्त होता. यदि ब्लागजीन शब्द नया है तो पत्रिका की लोकप्रियता के बढ़ते बढ़ते उसे रूढ़ बनने में सहायता मिलती.

    ReplyDelete
  4. जल्दी ही अपना लिये जाएंगे ये शब्द यही आशा है ....वैसे बोलने और पढ़ने,समझने में भी तो आसान लग रहे हैं ...

    ReplyDelete
  5. इस पत्रिका के प्रवेशांक की संक्षिप्त समीक्षा आप यहाँ पर पढ़ सकते हैं -

    http://raviratlami.blogspot.in/2009/11/blog-post_23.html

    ReplyDelete
    Replies
    1. मेरी तो शुरुआत ही 2010 में हुई, इसलिए यह देख नहीं पाया था, आपने लिंक दे दिया, उपयोगी है, धन्‍यवाद.

      Delete
  6. वाह! नयी जानकारी के लिए शुक्रिया...वैसे भी यहाँ आने पर कुछ न कुछ नया तो मिलता ही है :)

    ReplyDelete
  7. उपयोगी, सुन्दर, ज्ञानवर्धक पोस्ट जिसके बारे में इतनी जल्दी कुछ भी कह पाना संभव नहीं लेकिन एक बात तो निर्विवाद है कि जिस परिवार में हम हैं उसकी जानकारी या कहें वंशावली का ज्ञान आवश्यक है .
    आपने जितने बिन्दुओं का उल्लेख किया है उन्हें स्मरण रखा जायेगा ... आपका अति आभार

    ReplyDelete
  8. बहुत अच्छा विषय लिया आपने, इसी हफ्ते संभवतः किसी अखबार के अवकाश अंक में चार्ल्स डिकेंस द्वारा गढ़े अंग्रेजी के शब्दों के संबंध में जानकारी मिली, मानक के नाम पर हमने कितने भाषाई प्रयोग छोड़ दिए, यह हिंदी के लिए शुभ संकेत नहीं है।

    ReplyDelete
  9. संयोगवश मैंने भी आज ही रवि जी की सबंधित पोस्ट पढ़ी है| काश महीना भर पहले इस पत्रिका की जानकारी मिली होती, पूरा सप्ताह भर भोपाल में शामें और रातें कमरे में बिताईं, वक्त और अच्छा बीतता:)

    ReplyDelete
  10. इस तरह के प्रयास सराहनीय हैं.

    ReplyDelete
  11. नयी जानकारी मिली .... बहुत बढ़िया

    ReplyDelete
  12. मुझे पहली ही बार इसकी जानकारी मिली, आपसे। अच्‍छा लगा। रविजी की पोस्‍ट भी पढी। मुझ जैसे 'कमसमझों' की चिन्‍ता न तो रविजी ने की न ही आपने। दोनों ने इसका अता-पता नहीं दिया (मुझे नजर नहीं आया)। यदि मैं इसकी एक प्रति प्राप्‍त करना चाहूँ तो किसे और कहॉं सम्‍पर्क करूँ - बताने का उपकार करें।

    ReplyDelete
  13. कम से कम नेट की दुनिया के लिए तो आप और आप का ब्लॉग विश्वकोशीय स्तर बना हुआ है ...हमेशा ही नयी जानकारी से भरपूर ...

    ReplyDelete
  14. hindi blog jagat me har shabd ko hindi me denae kaa riwaaj haen
    blog ko bhi yahaan chittha kardiyaa
    waese hi yahaan blogger kaa striling bhi bahut din khojaa gayaa

    phir yahaan bhai behan pitaa mataa ke sambandho ki hod haen

    bloggar shayad hi koi apne ko likhtaa aur kehtaa haen

    aap ko mera blog yaad rahaa thanks

    ReplyDelete
  15. एक सुंदर ज्ञानवर्धक लेख !

    ReplyDelete
  16. विमर्श को उकेरती हुई अच्छी पोस्ट है "जीन "शब्द का क्षेपक "ब्लॉग "के साथ जीवन खंडों का भ्रम पैदा कर सकता है रूढ़ हो चुका है यह शब्द और एक जीन तो पैरहन भी है "ब्लॉग सत्ता /ब्लॉग सन्देश /बाग़ पोस्ट सीधा और दो टूक लगता है .ब्लॉग नामा भी हो सकता है एक नाम .बहरसूरत आपकी पोस्ट उत्प्रेरक है .

    ReplyDelete
  17. एक सार्थक प्रयास

    ReplyDelete
  18. समीर लाल जी ने एक पोस्ट लिखी थी, उस पर डिग्रियों को लेकर विमर्श चल रहा था। मैने कहा था कि ब्लॉगर भी एक डिग्री ही है, इसे ब्लॉगरों द्वारा सहर्ष प्रयोग में लाना चाहिए। दूसरे दिन खुशदीप सहगल ने ब्लॉगर शब्द पर चिंता व्यक्त करते हुए एक पोस्ट लिखी। पर हमने 9 जून 2011 से अपने नाम के साथ उपाधि के रुप में ब्लॉगर का उपयोग शुरु कर दिया। तब से अब तक बदस्तुर जारी है। इसके बाद किसने इस शब्द का अपने नाम के साथ इस्तेमाल किया वह ध्यान नहीं है।
    सहज बोले और समझे जाने वाले शब्दों को भाषाएं अंगीकार करते रही हैं। अन्य भाषाओं के शब्दों के समानार्थी रुप कभी-कभी हास्यास्पद भी हो जाते हैं। पनियाब और पंजाब में निकट का ही अंतर हैं। जोगिंदर कहते-कहते जलंधर हो जाता है। बढिया पोस्ट के लिए आभार।

    ReplyDelete
    Replies
    1. हा हा हा
      न ब्ला ना ब्लॉ
      हम तो हैं बला
      पा-बला

      Delete
  19. इस ब्लागजीन का स्वागत है !

    ReplyDelete
  20. इस बार भोपाल जाने पर ब्लॉगर पार्क जरुर लेकर आऊंगा.. अच्छी जानकारी

    ReplyDelete
  21. अच्छी जानकारी मिली.हम तो भारत से बाहर हैं जान कर खुश हो लिये पढ़ने को मिलती तो और अच्छा रहता !

    ReplyDelete
  22. आच्छी जानकारी मिली है। मुझे भी इस पत्रिका को प्राप्त करने का पता चाहिये ,ागर भेज सकें तो मेल कर दें। धन्यवाद।

    ReplyDelete
    Replies
    1. रवि जी ने अपनी टिप्‍पणी में अपनी पोस्‍ट का उपयोगी लिंक दे दिया है और उस पोस्‍ट में पत्रिका के पीडीएफ प्रति का लिंक
      http://scratchmysoul.com/BloggersparkMagzine.pdf भी उन्‍होंने दिया है. मैंने पोस्‍ट की शुरुआत में ही पत्रिका के नाम पर उसका लिंक दे दिया है.

      Delete
  23. उत्साहित करने वाली जानकारी। सार्थक पहल पर सुंदर आलेख प्रस्तुत करने के लिए धन्यवाद।

    ReplyDelete