# अभिनव # समाकर्षात् # शहर # इमर # पोंड़ी # हीरालाल # हिन्दी का तुक # त्रयी # अखबर खान # स्थान-नाम # पुलिस मितानी # रामचन्द्र-रामहृदय # अकलतराहुल-072016 # धरोहर और गफलत # अस्सी जिज्ञासा # अकलतराहुल-062016 # सोनाखान, सोनचिरइया और सुनहला छत्‍तीसगढ़ # बनारसी मन-के # राजा फोकलवा # रेरा चिरइ # हरित-लाल # केदारनाथ # भाषा-भास्‍कर # समलैंगिक बाल-विवाह! # लघु रामकाव्‍य # गुलाबी मैना # मिस काल # एक पत्र # विजयश्री, वाग्‍देवी और वसंतोत्‍सव # बिग-बॉस # काल-प्रवाह # आगत-विगत # अनूठा छत्तीसगढ़ # कलचुरि स्थापत्य: पत्र # छत्तीसगढ़ वास्तु - II # छत्तीसगढ़ वास्तु - I # बुद्धमय छत्तीसगढ़ # ब्‍लागरी का बाइ-प्रोडक्‍ट # तालाब परिशिष्‍ट # तालाब # गेदुर और अचानकमार # मौन रतनपुर # राजधानी रतनपुर # लहुरी काशी रतनपुर # रविशंकर # शेष स्‍मृति # अक्षय विरासत # एकताल # पद्म पुरस्कार # राम-रहीम # दोहरी आजादी # मसीही आजादी # यौन-चर्चा : डर्टी पोस्ट! # शुक-लोचन # ब्‍लागजीन # बस्‍तर पर टीका-टिप्‍पणी # ग्राम-देवता # ठाकुरदेव # विवादित 'प्राचीन छत्‍तीसगढ़' # रॉबिन # खुसरा चिरई # मेरा पर्यावरण # सरगुजा के देवनारायण सिंह # देंवता-धामी # सिनेमा सिनेमा # अकलतरा के सितारे # बेरोजगारी # छत्‍तीसगढ़ी # भूल-गलती # ताला और तुली # दक्षिण कोसल का प्राचीन इतिहास # मिक्‍स वेज # कैसा हिन्‍दू... कैसी लक्ष्‍मी! # 36 खसम # रुपहला छत्‍तीसगढ़ # मेला-मड़ई # पुरातत्‍व सर्वेक्षण # मल्‍हार # भानु कवि # कवि की छवि # व्‍यक्तित्‍व रहस्‍य # देवारी मंत्र # टांगीनाथ # योग-सम्‍मोहन एकत्‍व # स्‍वाधीनता # इंदिरा का अहिरन # साहित्‍यगम्‍य इतिहास # ईडियट के बहाने # तकनीक # हमला-हादसा # नाम का दाम # राम की लीला # लोक-मड़ई और जगार # रामराम # हिन्‍दी # भाषा # लिटिल लिटिया # कृष्‍णकथा # आजादी के मायने # अपोस्‍ट # सोन सपूत # डीपाडीह # सूचना समर # रायपुर में रजनीश # नायक # स्‍वामी विवेकानन्‍द # परमाणु # पंडुक-पंडुक # अलेखक का लेखा # गांव दुलारू # मगर # अस्मिता की राजनीति # अजायबघर # पं‍डुक # रामकोठी # कुनकुरी गिरजाघर # बस्‍तर में रामकथा # चाल-चलन # तीन रंगमंच # गौरैया # सबको सन्‍मति... # चित्रकारी # मर्दुमशुमारी # ज़िंदगीनामा # देवार # एग्रिगेटर # बि‍लासा # छत्‍तीसगढ़ पद्म # मोती कुत्‍ता # गिरोद # नया-पुराना साल # अक्षर छत्‍तीसगढ़ # गढ़ धनोरा # खबर-असर # दिनेश नाग # छत्तीसगढ़ की कथा-कहानी # माधवराव सप्रे # नाग पंचमी # रेलगाड़ी # छत्‍तीसगढ़ राज्‍य # छत्‍तीसगढ़ी फिल्‍म # फिल्‍मी पटना # बिटिया # राम के नाम पर # देथा की 'सपनप्रिया' # गणेशोत्सव - 1934 # मर्म का अन्‍वेषण # रंगरेजी देस # हितेन्‍द्र की 'हारिल'# मेल टुडे में ब्‍लॉग # पीपली में छत्‍तीसगढ़ # दीक्षांत में पगड़ी # बाल-भारती # सास गारी देवे # पर्यावरण # राम-रहीम : मुख्तसर चित्रकथा # नितिन नोहरिया बनाम थ्री ईडियट्‌स # सिरजन # अर्थ-ऑवर # दिल्ली-6 # आईपीएल # यूनिक आईडी

Tuesday, April 23, 2013

गुलाबी मैना

तिलयार नाम सुनते ही रोहतक की झील (और ब्लागर मीट) याद आती है, लेकिन यह एक चिड़िया का भी नाम है। मैना परिवार की इस चिड़िया का नाम तिल्‍यर या तेलियर जैसा भी उच्‍चारित होता है। गुलाबी मैना कही जाने वाली इस चिडि़या का मधुर कन्नड़ नाम है, मधुसारिका। अंगरेजी नाम रोजी स्टारलिंग, रोजी पास्टर या रोजकलर्ड स्टारलिंग है।
नवा-नइया तालाब के आसमान पर शाम का नजारा
इनसेट में 24 मई 2000 को जारी डाक टिकट
संकरी-पेन्ड्रीडीह बाइपास मार्ग पर बिलासपुर से लगभग 15 किलोमीटर दूर बेलमुड़ी (बेलमुण्डी) गांव में नवा तालाब को घेरे, अर्द्धचंद्राकार लंबाई में फैला नइया तालाब सड़क से दिखता है। तालाब के 'पुंछा' वाले हिस्से में 'पटइता' घास है। नइया तालाब का यह भाग लाख संख्‍या में अनुमान की जाने वाली गुलाबी मैना का डेरा बना और इन तालाबों के ऊपर शाम करीब पांच बजे से साढ़े छः बजे तक आकाश में पक्षी-झुंडों की करतबी उड़ान का नजारा और उसकी चर्चा मार्च के अंतिम सप्ताह से अप्रैल के प्रथम सप्ताह तक रही।

2 अप्रैल 2013 के दैनिक नवभारत, बिलासपुर में प्रकाशित सचित्र समाचार में इन पक्षियों का मूल एशिया, यूरोप, रसिया(!) और कनाडा बताया गया है। यहां डीएफओ हेमंत पाण्डे के हवाले से इन्हें ब्लैक हेडेड गुल(!?गल) कहा गया है। 6 अप्रैल 2013 के दैनिक भास्कर, बिलासपुर में सचित्र समाचार प्रकाशित हुआ, जिसमें पक्षियों को मध्य यूरोप, एशिया और कनाडा से आए तथा पक्षियों के जानकार केके सोमावार और पर्यावरण प्रेमी अनुराग शुक्ला का उल्लेख करते हुए उनके हवाले से इन्हें रोजी पेस्टर या ब्लैक हेडेड गुल प्रवासी पक्षी बताया गया।
पेड़ पर पत्तियां नहीं, चिडि़यों का झुंड है.
प्राण चड्‌ढा जी बताते हैं कि बसंत पंचमी (इस वर्ष 15 फरवरी) को आ जाती है, नवरात्रि में (इस वर्ष 18 अप्रैल तक) लौटती है। कमल दुबे जी ने अवधि फरवरी तीसरे हफ्ते से मार्च अंत तक बताई है। कुछ फोटो रमन किरण जी से मिले। गांव वालों ने बताया कि फरवरी में ही आने लगी थीं, लेकिन शिवरात्रि, 10 मार्च के आसपास बड़े झुंडों में दिखने लगीं और 10 अप्रैल तक वापसी हुई।

इस पक्षी की कुछ जानकारी पुस्तकों और नेट पर तो मिली, लेकिन इन विवरणों से उस दृश्य का अनुमान भी नहीं होता, जो यहां रहा-

यह रिकार्डिंग चि. यश, सौ. शुभदा और विवेक जोगलेकर जी ने की है।
दूसरी रिकार्डिंग कमल दुबे जी की है, लेकिन इसके पहले 35 सेकंड का हिस्सा बीत जाने दें।
एक अन्य रिकार्डिंग राजेश तिवारी जी ने लगाई है।
इन्‍हें देखकर Bezier Screensaver याद आता है।
पक्षियों से भरा तालाब अब रीता है.
बेलमुड़ी पहुंचा हूं, तालाब मौजूद है और गांव वालों में पिछले दिनों की यादें, किस्से, उसका रोमांच भी। चिड़ियों को जगह भा गई और लगता है पक्का रिश्ता बन गया है। मुझे पहुंचने में देर हो गई या शायद समय से दस-ग्यारह महीने पहले आ गया।

29 comments:

  1. पशु पक्षी बीते दिनों की बात हो जाएँगे।

    ReplyDelete
  2. जानकारी भरा जानदार और शानदार पोस्ट! व्हीडियो रेकॉर्डिंग्स ने पोस्ट को और जीवंत बना दिया है।

    ReplyDelete
  3. आज की ब्लॉग बुलेटिन बिस्मिल का शेर - आजाद हिंद फौज - ब्लॉग बुलेटिन मे आपकी पोस्ट को भी शामिल किया गया है ... सादर आभार !

    ReplyDelete
  4. मैना, गौरैया आदि तो गुज़ारे ज़माने की बातें हो गयीं.. यहाँ गुजरात में मेरे घर के आस पास फिर से मुझे वो सब खोया हुआ मिल गया है!!

    ReplyDelete
  5. पेड़ पर इतने पक्षी साथ साथ, कहाँ नसीब है शहर को।

    ReplyDelete
  6. वाह! अद्भुत! पोस्ट भी और विजुअल्स भी। क्या बात है! आपको और विडियोग्राफी करने वालों को भी साधुवाद और बधाई। घर बैठे चिड़ियों का अद्भुत एयर शो दिखाने के लिये, जानकारी देने के लिये।

    ReplyDelete
  7. बरसों बीत गए यह द्रश्य देखे बिना...

    ReplyDelete
  8. बरसों बीत गए यह द्रश्य देखे बिना...

    ReplyDelete
  9. एक बड़ा चित्र भी लगाना था जिससे इनकी पहचान साबित हो जाती
    ज्यादातर वन विभाग वालों को वे कहीं के भी हों यू पी बिहार एम् पी कुछ पता नहीं होता वे हाथी के बच्चे को भी गैंडा बता सकते हैं
    महानुभाव पता नहीं कैसे इसे ब्लैक हेडेड गल बता रहे हैं जबकि वह एक अलग प्रवासी पक्षी( धोमरा ) है इससे तो बिलकुल ही अलग .
    यह रोजी पेस्टर( स्टर्नस रोजियेस )ही है मगर आपके विवरण में कुछ बातें उलझन में डाल रही हैं -अच्छा बताईये ये घोसले क्या यहीं बनाती हैं ? नहीं न ? क्योकि ये पूर्वी यूरोप ,पश्चिम और मध्य एशिया की पहाड़ियों में घोसले बनाती हैं और भारत में सबसे पहले प्रवास करने वाली चिड़ियों में से एक हैं . मगर ये आती जुलाई और अगस्त में है और जाती अप्रैल में हैं ,हो सकता है वे इस क्षेत्र में वापसी यात्रा पर हों!

    ReplyDelete
    Replies
    1. इन पर मेरी जानकारी किताबी ही है, लेकिन ये पंछी हमारे देश में भी होते हैं, मात्र विदेश से आने वाले प्रवासी नहीं.

      Delete
    2. यह तो प्रवासी पक्षी ही है अगर तेलियर है -कारण यह यहाँ घोसला नहीं बनाती है -या बनाती है ? यही मैंने पूछा है !कृपया बतायें !

      Delete
  10. This comment has been removed by a blog administrator.

    ReplyDelete
  11. अब तो गांवों में भी ये दृश्य ओझल होते जा रहे है !!

    ReplyDelete
  12. प्रवासी पक्षियों के निवास, भोजन, प्रजनन, और जीवन शैली का अध्ययन का आनंद आपके संग और जोगलेकर जी का सानिध्य याद आ गया .....

    ReplyDelete
  13. अरे वाह ...सुंदर पक्षी के बारे में जानकारी मिली

    ReplyDelete
  14. अद्भुत! अब आप को तो इंतज़ार करना ही होगा.विडिओस रोमांचित करते हैं.

    ReplyDelete
  15. इनका उड़ना और आकाश में तरह तरह के फ़ार्मेशन्स बनाना अदभुत दृश्य प्रस्तुत करता है।

    ReplyDelete
  16. मुझे पक्षियों से ज्यादा दिलचस्पी उनके नामों में हैं, जिन पक्षी विशेषज्ञों ने इनके नाम रखे होंगे वो जरूर कवि होंगे, मधुसारिका कितना दिलचस्प नाम है उतना ही प्यारा नाम रोजी स्टारलिंग। इस चिड़िया का सौंदर्य संस्कृत और अंग्रेजी भाषा के आभिजात्य की वजह से और निखर गया है। सुंदर पोस्ट

    ReplyDelete
  17. लाख संख्‍या में अनुमान की जाने वाली गुलाबी मैना.........बहुत सुन्‍दर।

    ReplyDelete
  18. इसको शिकारी तिल्यर और स्थानीय बोली में तेलाहरा कहा जाता,बात चार दशक पहले जब शिकार पर रोक न थी तब इनके झुण्ड जब वापसी के सूखे पेड़ पर एकत्र होने बैठते, तब छिपे शिकारी बारह बोर की गन में 6 नम्बर का छर्रा भर के दागते .दस-पन्द्रह पक्षी तो गिर जाते और घायल उड़ जाते' यकीनन वे वापस अपने देश नही पहुँचते होगे.
    अब जब फिर इतनी बड़ी संख्या में ये पंछी आ रहे है इसका अर्थ है कि उनकी संख्या और इस इलाके पर विश्वास बढ़ा है ..!

    ReplyDelete
  19. सुंदर प्रस्तुति और आलेख ..

    ReplyDelete
  20. shakuntala sharma, shaakuntalam. blogspot.comApril 25, 2013 at 12:13 PM


    मस्ती मे बतियाते हैं पहरो पन्छी प्रनयातुर परस्पर
    ऐसा लगता है जैसे हम भी इन्ही की तरह पन्छी हैं और चारे की तलाश मे इधर से उधर भाग रहे हैं अंतहीन दिशा मे-----------

    ReplyDelete
  21. सुंदर पोस्ट और सुंदर चित्र मधुसारिका के । चित्रों से मन प्रसन्न हुआ ।

    ReplyDelete
  22. बहुत ही अच्छी जानकारी है !खासकर चित्र जिस्मी चिडियाँ फ़ूलों के जैसे दीख रही हैं..शुभदा जी की रिकॉर्डिंग देखी .अद्भुत लगा .. मानो पहले से अभ्यास किये हुए करतब ये सभी हवा में उड़ते हुए मिल जुल कर दिखा रही हों!
    कितना आनंद देता है यूँ है प्रकृति के साथ जुडना.

    ReplyDelete
  23. इ-मेल पर डा. कामता प्रसाद वर्माः
    these Birds are migrated from other part of the country, and after some time these are go to another places where is favourable conditin.good information for the knowledge.

    ReplyDelete
  24. इन प्रवासियों ने यहाँ डेरा डाला.सुखद गर्व हमारे लिए

    ReplyDelete