# अभिनव # समाकर्षात् # शहर # इमर # पोंड़ी # हीरालाल # हिन्दी का तुक # त्रयी # अखबर खान # स्थान-नाम # पुलिस मितानी # रामचन्द्र-रामहृदय # अकलतराहुल-072016 # धरोहर और गफलत # अस्सी जिज्ञासा # अकलतराहुल-062016 # सोनाखान, सोनचिरइया और सुनहला छत्‍तीसगढ़ # बनारसी मन-के # राजा फोकलवा # रेरा चिरइ # हरित-लाल # केदारनाथ # भाषा-भास्‍कर # समलैंगिक बाल-विवाह! # लघु रामकाव्‍य # गुलाबी मैना # मिस काल # एक पत्र # विजयश्री, वाग्‍देवी और वसंतोत्‍सव # बिग-बॉस # काल-प्रवाह # आगत-विगत # अनूठा छत्तीसगढ़ # कलचुरि स्थापत्य: पत्र # छत्तीसगढ़ वास्तु - II # छत्तीसगढ़ वास्तु - I # बुद्धमय छत्तीसगढ़ # ब्‍लागरी का बाइ-प्रोडक्‍ट # तालाब परिशिष्‍ट # तालाब # गेदुर और अचानकमार # मौन रतनपुर # राजधानी रतनपुर # लहुरी काशी रतनपुर # रविशंकर # शेष स्‍मृति # अक्षय विरासत # एकताल # पद्म पुरस्कार # राम-रहीम # दोहरी आजादी # मसीही आजादी # यौन-चर्चा : डर्टी पोस्ट! # शुक-लोचन # ब्‍लागजीन # बस्‍तर पर टीका-टिप्‍पणी # ग्राम-देवता # ठाकुरदेव # विवादित 'प्राचीन छत्‍तीसगढ़' # रॉबिन # खुसरा चिरई # मेरा पर्यावरण # सरगुजा के देवनारायण सिंह # देंवता-धामी # सिनेमा सिनेमा # अकलतरा के सितारे # बेरोजगारी # छत्‍तीसगढ़ी # भूल-गलती # ताला और तुली # दक्षिण कोसल का प्राचीन इतिहास # मिक्‍स वेज # कैसा हिन्‍दू... कैसी लक्ष्‍मी! # 36 खसम # रुपहला छत्‍तीसगढ़ # मेला-मड़ई # पुरातत्‍व सर्वेक्षण # मल्‍हार # भानु कवि # कवि की छवि # व्‍यक्तित्‍व रहस्‍य # देवारी मंत्र # टांगीनाथ # योग-सम्‍मोहन एकत्‍व # स्‍वाधीनता # इंदिरा का अहिरन # साहित्‍यगम्‍य इतिहास # ईडियट के बहाने # तकनीक # हमला-हादसा # नाम का दाम # राम की लीला # लोक-मड़ई और जगार # रामराम # हिन्‍दी # भाषा # लिटिल लिटिया # कृष्‍णकथा # आजादी के मायने # अपोस्‍ट # सोन सपूत # डीपाडीह # सूचना समर # रायपुर में रजनीश # नायक # स्‍वामी विवेकानन्‍द # परमाणु # पंडुक-पंडुक # अलेखक का लेखा # गांव दुलारू # मगर # अस्मिता की राजनीति # अजायबघर # पं‍डुक # रामकोठी # कुनकुरी गिरजाघर # बस्‍तर में रामकथा # चाल-चलन # तीन रंगमंच # गौरैया # सबको सन्‍मति... # चित्रकारी # मर्दुमशुमारी # ज़िंदगीनामा # देवार # एग्रिगेटर # बि‍लासा # छत्‍तीसगढ़ पद्म # मोती कुत्‍ता # गिरोद # नया-पुराना साल # अक्षर छत्‍तीसगढ़ # गढ़ धनोरा # खबर-असर # दिनेश नाग # छत्तीसगढ़ की कथा-कहानी # माधवराव सप्रे # नाग पंचमी # रेलगाड़ी # छत्‍तीसगढ़ राज्‍य # छत्‍तीसगढ़ी फिल्‍म # फिल्‍मी पटना # बिटिया # राम के नाम पर # देथा की 'सपनप्रिया' # गणेशोत्सव - 1934 # मर्म का अन्‍वेषण # रंगरेजी देस # हितेन्‍द्र की 'हारिल'# मेल टुडे में ब्‍लॉग # पीपली में छत्‍तीसगढ़ # दीक्षांत में पगड़ी # बाल-भारती # सास गारी देवे # पर्यावरण # राम-रहीम : मुख्तसर चित्रकथा # नितिन नोहरिया बनाम थ्री ईडियट्‌स # सिरजन # अर्थ-ऑवर # दिल्ली-6 # आईपीएल # यूनिक आईडी

Sunday, August 25, 2013

हरित-लाल


हरित फलदार पौधा,
पता नहीं लगता
परिवर्तन कि,
नीचे से लाल हुआ जा रहा.

बात कुछ और नहीं
बस मिर्ची 'लगी' है,
गमले में.
'लगती' है तो सुंदर ही.

जोता न बोया,
अपने-आप
फल तैयार,
हलषष्‍ठी सामने है.

40 comments:

  1. आपका गमला चुराने का मन कर रहा है । मनोरम-मिर्ची ।

    ReplyDelete
    Replies
    1. अंडे खा लें, (कहावत वाले), मुर्गी को बक्‍श दें.:)

      Delete
    2. वाक़ई चित्र बेहतरीन है, खाने मिर्च कैसी होगी ? (:

      Delete
  2. अपना स्वभाव व्यक्त कर रहा है, पर वह भी सुन्दरता से।

    ReplyDelete
  3. सर जी आपने खूब कहा सचमुच मिर्ची लगती है तो लाल हो जाती है और मिर्च भी नीचे से ही लाल और लगती है अद्भुत जो जोता न परमारथ के लिये तैयार हल षष्ठी पर अनुपम भेंट आपका यह व्यंग और उपहार सुन्दर चित्र संग नमन ***वाओ ****

    ReplyDelete
  4. मैंने भी इस बार लगायीं हैं ...
    बधाई !

    ReplyDelete
  5. लगता है हमारे कमेंट से नेट देवता को मिर्ची ’लगी’ है इसीलिये उड़ गया :)

    ReplyDelete
    Replies
    1. :) संजय बाऊ, लगता है मिर्च का तुमारे से बहुत पुराना रिश्ता है :)

      Delete
  6. बहुत खूब..... पौधों पर लगे फल चाहे जो हों, लुभाते हैं,

    ReplyDelete
  7. कभी लाल पीली मिर्च के खेत के बीच जाकर फोटो खिंचवाएं

    ReplyDelete
  8. राजस्थान में राजीव गाँधी को लेकर कहानी प्रचलित है -
    कि राजीव गाँधी सड़क मार्ग से जा रहे थे कि सड़क किनारे एक खेत में सुख रहे लाल मिर्ची का ढेर देख रुके और किसान से पूछने लगे कि - उसे लाल मिर्ची बेचने में ज्यादा फायदा है या हरी मिर्ची बेचने में ?
    किसान बोला- लाल मिर्ची बेचने में ज्यादा फायदा है !
    राजीव गाँधी ने किसान को सलाह दी - फिर हरी की जगह लाल मिर्ची की ही खेती किया करो !!

    यदि आपका यह गमला राजीव गाँधी देख लेता तो उसे भी पता चल जाता कि हरी व लाल मिर्ची एक ही पौधे पर होती है यानी हरी ही पक कर लाल होती है :)

    ReplyDelete
  9. बड़ी सुन्दर लग रही है लाल मिर्च!

    ReplyDelete
  10. मिर्च के स्वाद की तो बात ही निराली - अच्छा किया गमले में उगा ली!

    ReplyDelete
  11. सुन्दर अभिव्यक्ति .खुबसूरत रचना
    कभी यहाँ भी पधारें।
    सादर मदन
    http://saxenamadanmohan1969.blogspot.in/
    http://saxenamadanmohan.blogspot.in/

    ReplyDelete
  12. हमारे ऑफिस के बाहर एक पार्क है. वहां एक बार फूलों की जगह मिर्ची लगा गए थे। उनकी याद आ गयी !

    ReplyDelete
  13. गद्य और पद्य यहाँ आपस में मिल गये हैं क्षितिज की तरह और जानना मुश्किल है कि शाम का रंग किसका है?

    ReplyDelete
  14. यह भी यह रोचक विषय बन सकता है

    ReplyDelete
  15. वाह! बहुत सुन्दर!
    बचपन में एक बार मैंने भी मिर्च का पौधा लगाया था - वो गोल वाली छोटी लाल मिर्चें होती थीं।
    बहुत तीखी! उनकी याद हो आयी।

    ReplyDelete
  16. dehat me ise angreji mirchi kahate hai..........

    ReplyDelete
  17. फोटो कमाल का ...

    ReplyDelete
  18. हरे पत्ते के साथ लाल लाल मिर्ची का कॉम्बिनेशन बहुत सुन्दर लग रहा अहै...कविता भी इसे कॉम्प्लीमेंट कर रही है .

    ReplyDelete
  19. इतने दिनों बाद भी ताजी ..... :-)

    ReplyDelete
  20. मिर्ची का स्वाद कैसा है ? काश मैं गमला सहित पौधा चुरा ली होती ।

    ReplyDelete
  21. वाकई जितना मिर्च का स्वाद निराला होता है उतनी ही यह तस्वीर निराली लग रही है।

    ReplyDelete
  22. बस्तरिया हरियाली पे मिर्च का तड़का
    -Bikash

    ReplyDelete
  23. मिर्च का पौधा आसानी से लगता है और फलता भी है। बहुत दिनों से कोई नई पोस्ट नही आई।

    ReplyDelete
  24. bahut dino k baad sinhavalokan ka avlokan kar paya....achhi kavita.....

    ReplyDelete
  25. अरे ,यह पोस्ट तो बहुत पुरानी हो गई ..!

    ReplyDelete
  26. Earn from Ur Website or Blog thr PayOffers.in!

    Hello,

    Nice to e-meet you. A very warm greetings from PayOffers Publisher Team.

    I am Sanaya Publisher Development Manager @ PayOffers Publisher Team.

    I would like to introduce you and invite you to our platform, PayOffers.in which is one of the fastest growing Indian Publisher Network.

    If you're looking for an excellent way to convert your Website / Blog visitors into revenue-generating customers, join the PayOffers.in Publisher Network today!


    Why to join in PayOffers.in Indian Publisher Network?

    * Highest payout Indian Lead, Sale, CPA, CPS, CPI Offers.
    * Only Publisher Network pays Weekly to Publishers.
    * Weekly payments trough Direct Bank Deposit,Paypal.com & Checks.
    * Referral payouts.
    * Best chance to make extra money from your website.

    Join PayOffers.in and earn extra money from your Website / Blog

    http://www.payoffers.in/affiliate_regi.aspx

    If you have any questions in your mind please let us know and you can connect us on the mentioned email ID info@payoffers.in

    I’m looking forward to helping you generate record-breaking profits!

    Thanks for your time, hope to hear from you soon,
    The team at PayOffers.in

    ReplyDelete
  27. आपका ब्लॉग मुझे बहुत अच्छा लगा। मेरा ब्लॉग "नवीन जोशी समग्र"(http://navinjoshi.in/) भी देखें। इसके हिंदी ब्लॉगिंग को समर्पित पेज "हिंदी समग्र" (http://navinjoshi.in/hindi-samagra/) पर आपका ब्लॉग भी शामिल किया गया है। अन्य हिंदी ब्लॉगर भी अपने ब्लॉग को यहाँ चेक कर सकते हैं, और न होने पर कॉमेंट्स के जरिये अपने ब्लॉग के नाम व URL सहित सूचित कर सकते हैं।

    ReplyDelete